नई दिल्ली : किसानों और सरकार के बीच चौथे राउंड की बैठक जारी, अभी नहीं बनी है बात

नई दिल्ली | हाल ही में संसद द्वारा पास कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में पिछले आठ दिनों से किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। वे तीनों कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं और इसको लकेर वे दिल्ली की सीमा पर डटे हुए हैं। वे राष्ट्रीय राजधानी में आकर प्रदर्शन की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उन्हें फिलहाल इसकी इजाजत नहीं दी गई है। दिल्ली आने वाले अधिकांश रास्तों को सील कर दिया गया है। वहीं, आज चौथे दौर की वार्ता से पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह मुलाकात करने पहुंचे हैं।

ये है आज की अपडेट-

  • पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल ने भारत सरकार पर किसानों के साथ विश्वासघात का आरोप लगाते हुए पद्म विभूषण लौटा दिया है।
  • पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि किसानों और केंद्र के बीच बातचीत चल रही है और मेरे पास इस मसले को हल करने के लिए कुछ भी नहीं है। मैंने गृह मंत्री के साथ बैठक में अपना विरोध दोहराया और उनसे इस मुद्दे को हल करने का अनुरोध किया है क्योंकि यह मेरे राज्य की अर्थव्यवस्था और राष्ट्र की सुरक्षा को प्रभावित करता है।
  • पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मानसा और मोगा के दो किसान के परिवों को 5-5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है, जिनकी कृषि कानून के विरोध प्रदर्शन के दौरान मृत्यु हो गई।
  • बैठक शुरू होने से पहले कृषि मंत्री ने किसान नेताओं का हाथ जोड़कर किया स्वागत
  • दिल्ली: कृषि कानूनों पर किसान नेताओं से बात करने के लिए केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर विज्ञान भवन पहुंचे
  • किसानों से बातचीत से पहले केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार लगातार किसानों के साथ मुद्दों पर चर्चा कर रही है। आज वार्ता का चौथा दौर है और मैं सकारात्मक परिणाम की उम्मीद कर रहा हूं।
  • आप कानून रद्द करवाना चाहते हैं या उनमें संशोधन” सवाल पूछे जाने पर भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि आज बात बनेगी। सभी काम होंगे, आज कानून वापसी होगी और किसान भी अपने घर जाएगा। अभी चलकर सरकार से बात करेंगे।
  • सरकार से बात करने 40 किसान नेता विज्ञान भवन पहुंचे
  • अमित शाह से मिलने के लिए पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह उनके निवास स्थल पर पहुंचे।

कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघु बॉर्डर (दिल्ली-हरियाणा) पर किसान प्रदर्शनकारियों का विरोध प्रदर्शन जारी है।
सरकार से बात करने के लिए 35 किसान नेता सिंघु बॉर्डर से निकल चुके हैं।
किसान मजदूर संघर्ष समिति के एसएस सुभरण ने कहा, ‘केंद्र किसानों को बांटने की कोशिश कर रहा है। जब तक पीएम मोदी सभी 507 किसान यूनियनों के नेताओं के साथ बैठक नहीं करेंगे सरकार द्वारा बुलाई गई किसी भी बैठक में शामिल नहीं होंगे।’

कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बॉर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। किसानों को आज केंद्र सरकार के साथ होने वाली बैठक से काफी उम्मीदें हैं। एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “हमें उम्मीद है कि फैसला हमारे हक में जाएगा। इतनी संख्या में किसान पंजाब, हरियाणा, यूपी से यहां पहुंच रहे हैं।”
गुजरात से आया किसानों का एक समूह कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघु बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहा है। एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “हम टीवी पर देख रहे थे कि ये आंदोलन हरियाणा और पंजाब का है, लेकिन ये आंदोलन पूरे हिन्दुस्तान के किसानों के लिए चल रहा है। हम इस आंदोलन का समर्थन करने आए हैं।”
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह चंडीगढ़ से दिल्ली के लिए रवाना हो चुके हैं। आज वह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे।