BHU की कमान अब महिला प्रॉक्टर के हाथ में, छात्राओं की सुरक्षा प्राथमिकता

बनारस | बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में अनुशासन की कमान अब विवि के इतिहास में पह्ल्ली बार महिला प्रॉक्टर संभालेंगी | काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में 23 सितम्बर की रात हुए लाठीचार्ज मामले के जांच अधिकारी एडीएम (प्रशासन) मुनींद्रनाथ उपाध्याय ने बताया कि मामले से जुड़े लोगों के बयान और साक्ष्य के लिए पहले तीन अक्तूबर की तिथि तय थी। दशहरा और मोहर्रम को देखते हुए पांच अक्तूबर तक जांच अवधि बढ़ा दी गयी है। घटना के सम्बंध में कोई व्यक्ति कार्य दिवस के दौरान कार्यालय में लिखित साक्ष्य या बयान दर्ज करा सकता है। चिकित्सा विज्ञान संस्थान के एनाटॉमी विभाग की अध्यक्ष प्रो. रोयाना सिंह ने गुरुवार को बीएचयू के चीफ प्राक्टर का पद ग्रहण कर लिया। विश्वविद्यालय के इतिहास में वह पहली महिला चीफ प्राक्टर हैं।

उनकी नियुक्ति कुलपति प्रोफेसर जीसी त्रिपाठी ने की। पद ग्रहण करने के बाद प्रो. रोयाना सिंह ने कहा कि मेरी पहली प्राथमिकता काशी हिन्दू विश्ववविद्यालय में छात्र छात्रओं को समुचित सुरक्षा दिलाना होगा। लड़कियों के मन से असुरक्षा की भावना दूर की जाएगी। विश्वविद्यालय प्रशासन ने जो जिम्मेदारी दी है उसे जी जान लगाकर पूरा करेंगी। पूर्व चीफ प्रॉक्टर प्रो. ओएन सिंह ने पिछले दिनों बीएचयू में हुए बवाल की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया था। उसके बाद बीएचयू के छात्र अधिष्ठाता व नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. एमके सिंह को कार्यवाहक चीफ प्रॉक्टर बनाया गया था।
प्रो. रोयाना महिला शिकायत प्रकोष्ठ बीएचयू की चेयरपर्सन भी हैं। वह पूर्व में उप मुख्य आरक्षाधिकारी भी थीं। फ्रॉस के रोइना शहर में जन्मी रोयाना सिंह की प्राथमिक शिक्षा फ्रांस में हुई।
इसके बाद की समस्त शिक्षा भारत में पूरी की। स्नातकोत्तर उपाधि बीएचयू के चिकित्सा विज्ञान संस्थान से ली।