भीम आर्मी UP पंचायत चुनाव में दिखाएगी दम, विधानसभा चुनाव से पहले BSP को झटका देने की तैयारी

लखनऊ | खुद को बहुजन समाज पार्टी ( #BSP ) का विकल्प बनाने की कोशिशों में जुटी भीम आर्मी विधानसभा से पूर्व पंचायत चुनावों में भी अपनी ताकत दिखाएगी। बिना गठबंधन अपने दम पर चुनाव में उतरेगी ताकि गांव गांव में कार्यकर्ताओं को मजबूती दी जा सके।

बाबा साहेब आंबेडकर व कांशीराम के मिशन को अंजाम तक पहुंचाने का नारा देकर दलितों में जड़ें मजबूत कर रही भीम आर्मी कांशीराम जयंती (15 मार्च) पर राजनीतिक विंग के गठन की घोषणा करेगी। इसी दिन बसपा भी हर जिले में कांशीराम जयंती मनाएगी। यह पहला मौका होगा जब भीम आर्मी और बसपा के बीच भीड़ जुटाने को शक्ति प्रदर्शन जैसे हालात बनेंगे।

सधी चाल से बहुजन समाज पार्टी के गिरते ग्राफ का लाभ लेना चाह रहे भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर सीधे मायावती का नाम लेकर उन पर निशाना साधने से बचते हैं। यही वजह है कि बसपा के असंतुष्ट नेताओं की पहली पसंद भीम आर्मी बनती जा रही है। लखनऊ के दो दिनी प्रवास के दौरान चंद्रशेखर से मिलने वाले प्रमुख नेताओं में बसपा के पूर्व एमएलसी सुनील चितौड़ समेत तीन दर्जन से अधिक कद्दावर दलित और पिछड़े वर्ग के नेता शामिल थे।