भारत ने चीन से टक्कर लेने के लिए तैयार किया ‘परमाणु हथियारबंद पनडुब्बी’

चीन और भारत का तनाव चरम सीमा पर है, ऐसे में भारत की दूसरी परमाणु हथियारबंद पनडुब्बी अब लॉन्च के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। रणनीतिक प्रतिरोध को मजबूत करने के लिए भारतीय नौसेना का यह एक महत्वपूर्ण कदम है।

विशाखापट्टनम के गुप्त जहाज भवन केंद्र में बनकर तैयार हुई, इस परमाणु हथियारबंद पनडुब्बी को अगले छह से आठ सप्ताह में शुरू किया जा सकता है। इस पनडुब्बी की नाम ‘अरिदमन’ रखा गया है।

यह पनडुब्बी उस वक्त बनकर तैयार हुई है जब डोकलाम में भारत और चीन की बीच तनातनी चल रही है। हाल ही में चीन ने इस विवाद के बीच अपने हथियारों का प्रदर्शन किया था। अब भारत ने भी चीनी सेना को जवाब देने के लिए ‘अरिदमान’ तैयार कर लिया है।

सूत्रों की मानें तो अरिदमन पनडुब्बी, भारत के पहले परमाणु आईएनएस अरिहंत की तुलना में ज्यादा शक्तिशाली और बेहतर तरीके से तैयार की गई है। इसे फिलहाल जमीन पर लाया जा चुका है और जल्द ही पानी मे लॉन्च किया जाएगा।

इस प्रोजेक्ट पर बहुत ही गुप्त रूप से काम किया गया है और कोई भी भारतीय अधिकारी ने इसके बारे में खुलासा नहीं किया है। परमाणु पनडुब्बी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार की निगरानी में आता है।

चीन की खुली धमकी, अगर हम भारत में घुस आये तो तबाही मचा देंगे
अरिदमान ना सिर्फ विशाल और सुसज्जित है बल्कि अरिहंत के 83एमडब्लू की क्षमता से भी ज्यादा ताकतवर है।

जब 2009 में अरिहंत पनडुब्बी बनकर तैयार हुई, तभी अरिदमान का निर्माण शुरू हो गया था। जहां अरिहंत को लॉन्च करने में 11 साल लगे, वहीं अरिदमान 8 साल में बनकर तैयार हो गई।