बदलते मौसम में स्वस्थ रहने के लिए रहे सावधान ! करें यह उपाय

बुलंदशहर/शुभम अग्रवाल |  पिछले कुछ समय से मौसम में लगातार हो रहे बदलाव के कारण विभिन्न प्रकार की  बीमारियां उत्पन्न होने लगी है। इस बदलते मौसम को देखकर कोई भी शहरवासी यह नही समझ पा रहा है, कि वह घरेलू उपाय करें या इन बीमारियो का इलाज किसी चिकित्सक से कराए। बहरहाल लगातार बदलते मौसम में यह बिमारियां सिरदर्द बनी हुई है। मौसम में आ रहे बदलाव का सेहत पर विपरीत असर पड़ रहा है। जिला चिकत्सालय व निजी नर्सिंग होम में बीमारियो को लेकर कई मरीज पहुंच रहे हैं। सर्दी-बुखार सहित उल्टी दस्त के मरीज भी सामने आ रहे हैं।
गर्मी ने फरवरी के माह में ही अपने तेवर दिखाना शुरू कर दिया है। जहां दोपहर में धूप अपने पूरे चरम पर है, वहीं दिन ढलते ही सर्द हवाओ के थपेड़े सर्दी का अहसास करा रहे है। इसके पहले सप्ताह में एक-दो दिन के अंतराल में हुई बूंदाबांदी से वातावरण में ठंडक भी घुल रही थी। ऐसे सर्द-गर्म मौसम के हिसाब से लोग अपने आप को ढाल नहीं पा रहे हैं, जिससे सेहत पर असर पडऩे लगा है। लोगों में बुखार, उल्टी-दस्त, बदहजमी सहित कई तरह की शिकायत शुरू हो गई है। सरकारी अस्पताल के अलावा निजी नर्सिंग होम में भी सर्दी-बुखार, उल्टी-दस्त के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। जिला चिकित्सालय के वार्ड में ऐसे ही मरीजों से भरे हुए हैं। उल्टी-दस्त के पांच मरीज अभी जिला अस्पताल में भर्ती हैं। इसके अलावा जिला अस्पताल में सर्दी, खांसी, बुखार से पीड़ित मरीज भर्ती है। जिला अस्पताल में भी मौसम बदल जाने से कई तरह की बीमारियों के मरीज बढ़ रहे हैं। आम दिनों में ओपीडी में करीब 50 मरीज होते हैं, लेकिन मौसम बदलने के कारण हर रोज अब 100 से ज्यादा मरीज ओपीडी में पहुंच रहे हैं।
एडजस्ट नहीं हो पा रहा शरीर-
इस तरह के मौसम में लोगों के बीमार होने का कारण इंफेक्शन लगातार बढ़ता जाता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती जाती है। इससे बचने लोगों को स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत पड़ती है। तेजी से बदलते मौसम में बीमारी की संभावना अधिक रहती है। मौसम में अचानक परिवर्तन के कारण अस्पताल में अभी मरीज की संख्या में इजाफा हुआ है। ऐसे मौसम में साफ सुथरा और गर्म भोजन करना चाहिए। आने वाले दिनों में गर्मी बढ़ेगी तो समस्या और बढ़ सकती है।
बचने के उपाय-
1-एसी रूम से एकदम गर्मी या ठंड में जाने की बजाय शरीर का तापमान सामान्य हो जाने दें।
2-मौसम के बदलाव में तली हुई और बाहर की चीजें खानें से बचें।
3-घर में किसी को भी सर्दी, खांसी और बुखार हो तो इन्फेक्शन के खतरे से खुद को बचाएं।
4-मरीज का रुमाल, टॉवेल, मोबाइल आदि उपयोग नहीं करें।
5-बीमारी महसूस होने पर टालने की बजाय तुरंत इलाज लें।