अखिलेश यादव बोले- ‘अयोध्या में VHP, शिवसेना व RSS ने पैदा किया उन्माद’, BSP-RLD और कांग्रेस ने भी भाजपा पर साधा निशाना

अयोध्या | राममंदिर को लेकर गर्माए माहौल को लेकर विपक्ष भी चौकन्ना है और नफे-नुकसान पर निगाह लगाए है । रविवार को अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद व अन्य संगठनों के धर्मसभा व जनसंवाद जैसे कार्यक्रम को भाजपा प्रायोजित बताया और कहा कि राम मंदिर के बहाने उन्माद फैलाने का षडयंत्र को जनता कामयाब न होने देगी।

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद, शिव सेना व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने उन्माद पैदा किया है जिसके पीछे भाजपा की पूरी मदद थी। जनता ने इसको गंभीरता से नहीं लिया और भाजपा के कुत्सित इरादे नाकाम हो गए। आमजन को धन्यवाद देते हुए उन्होंने कहा कि काला धन की वापसी, किसानों की तबाही, बेरोजगारी, महिला उत्पीडऩ बढऩे जैसे मुद्दों का कोई हल निकालने में विफल रही भाजपा सरकारें सांप्रदायिक उन्माद बढ़ा कर राजनीतिक लाभ लेना चाहती है। जनता के मुद्दों से पलायन राजनीतिक बेईमानी है और वादे पूरा न कर पाना राजनीतिक भ्रष्टाचार। जागरूक जनता किसी बहकावे में आने वाली नहीं है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने भी भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकारों की नाकामयाबी से आम लोगों का ध्यान हटाने के लिए तमाम हथकंडे आजमाए जा रहे हैं। चुनाव में किए गए वादों को पूरा न करने वालों को जनता सबक सिखाने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि भाजपा और आरएसएस की नीति और नीयत हमेशा जनविरोधी रही है, समाज को बांटना और नफरत पैदा करना उनका मूल चरित्र है। राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने आरोप लगाया कि केंद्र व प्रदेश की सरकारें जनसमस्याओं से आंख-कान बंद किए है। आम जनता की परेशानियों से उनको कोई सरोकार नहीं है। राममंदिर को मामला सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधीन है। फैसला न होने तक इस मुद्दे को चुनाव से पहले गर्माने की सच्चाई जनता जान चुकी है।

बसपा महासचिव राम अचल राजभर ने भी अयोध्या में आयोजन के पीछे भाजपा का ही हाथ होने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब जनता इनके किसी तरह के बहकावे में आने वाली नहीं है। देश व प्रदेशवासियों को अब भाजपा की केंद्र व राज्य सरकारों से किसी तरह की कोई उम्मीद नहीं रह गई है। इनकी नाकामियों का जवाब जनता इन्हें सत्ता से बेदखल करके देगी।