UP : अक्टूबर में होंगे विधानसभा उपचुनाव, ये सीट हैं खाली-

नई दिल्ली | केंद्रीय चुनाव आयोग की तैयारियों को देखते हुए आसार बन रहे हैं कि उत्तर प्रदेश की विधान सभा की खाली चल रही 12 सीटों के उपचुनाव अक्तूबर में होंगे। आयोग हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड विधान सभा चुनाव के साथ ही उत्तर प्रदेश की इन 12 विस सीटों के उपचुनाव भी करवाने की तैयारी शुरू कर चुका है। अभी हाल ही में आयोग ने इन तीनों राज्यों की सरकारों को निर्देश दिए हैं कि शासन-प्रशासन में जो अफसर व अन्य कर्मचारी एक ही जगह पर तीन साल से जमे हुए हैं।

उन्हें 31 अक्टूबर तक अन्यत्र स्थानांतरित कर दिया जाए। आयोग के इन निर्देशों से अनुमान लगाया जा रहा है कि हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड के विस चुनाव अक्तूबर में हो सकते हैं। हरियाणा विधानसभा का कार्यकाल 2 नवम्बर को, महाराष्ट्र विधानसभा का 9 नवम्बर को और झारखंड विधानसभा का कार्यकाल 27 दिसंबर को खत्म हो रहा है। आयोग इन तीनों राज्यों के विधानसभा चुनाव एक साथ करवा सकता है।

हरियाणा विधानसभा का कार्यकाल 2 नवम्बर और महाराष्ट्र विधानसभा का 9 नवम्बर को खत्म हो रहा है। इस लिहाज से अनुमान यह लगाया जा रहा है कि अक्तूबर के अंतिम सप्ताह में दीपावली के त्यौहार से पहले इन तीनों राज्यों की विस के आम चुनाव और उत्तर प्रदेश विधानसभा के उपचुनाव की प्रक्रिया पूरी कर ली जाए।

उत्तर प्रदेश की खाली चल रही 12 विस सीटों का उपचुनाव इन सीटों से चुने गये विधायकों द्वारा त्यागपत्र देने या अन्य वजहों से इनके खाली होने के 6 महीने के भीतर करवा लिया जाना चाहिए। चूंकि इन 12 सीटों में से 11 सीटों पर लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बने विधायकों ने बीती जून में इस्तीफे दिए हैं। इस लिहाज से दिसम्बर तक इन सीटों के उपचुनाव करवा लिए जाने चाहिए। एक अन्य विस सीट आजमगढ़ की घोसी है जहां से निर्वाचित हुए फागू चौहान को बिहार का राज्यपाल बनाया गया। उन्होंने 26 जुलाई को विधानसभा से इस्तीफा दिया है।

इस लिहाज से इस सीट पर जनवरी 2020 तक उपचुनाव करवाए जाने का समय है। मगर आयोग इस सीट को शामिल करते हुए प्रदेश की सभी 12 खाली विस सीटों का उपचुनाव एक साथ ही करवाएगा। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के सूत्र भी स्वीकार करते हैं कि प्रदेश की इन खाली 12 विस सीटों पर उपचुनाव नवम्बर में हरियाणा, झारखडं व महाराष्ट्र विस चुनाव के साथ ही होने के आसार हैं।

यह सीटें हैं खाली-
-गोविन्दनगर कानपुर, लखनऊ कैण्ट, टुण्डला फिरोजाबाद, गंगोह सहारनपुर, बलहा बहराइच, मानिकपुर चित्रकूट, प्रतापगढ़ सदर, इगलास अलीगढ़, जैदपुर-बाराबंकी, जलालपुर-अम्बेडकरनगर, रामपुर और घोसी