‘इंजीनियर्स डे’ पर पढ़िए ध्रुव गुप्त का आर्टिकल : विश्वकर्मा होने का अर्थ !

प्राचीन आर्य संस्कृति के विकास में जैसे आर्य ऋषियों की भूमिका रही थी, वैसी ही भूमिका आर्य सभ्यता के निर्माण में उस युग के वास्तुकारों और यंत्र निर्माताओं की रही थी। पुराणों ने जिस एक व्यक्ति को उस सभ्यता के विकास का सर्वाधिक श्रेय दिया है, वे हैं विश्वकर्मा। उन्हें जीवन के लिए उपयोगी कुआं, बावड़ी, जलयान, कृषि यन्त्र, आभूषण, भोजन-पात्र, रथ आदि का अविष्कारक माना जाता है। अस्त्र-शस्त्रों में उन्होंने कर्ण के रक्षा कुंडल, विष्णु के घातक हथियार सुदर्शन चक्र, शिव के त्रिशूल, यम के कालदंड का निर्माण किया था। भवन निर्माण के क्षेत्र में उनकी महान उपलब्धियों में इंद्रपुरी, वरुणपुरी, कुबेरपुरी, पाण्डवपुरी, सुदामापुरी, द्वारिका, हस्तिनापुर जैसे नगरों का निर्माण शामिल है।

पुराणों में उनके समकक्ष आर्येतर जातियों के एक और वास्तुकार मयासुर या मय दानव का उल्लेख है जिन्होंने त्रेता युग में सोने की लंका और द्वापर युग में अर्जुन के उपकार के बदले उस युग के वैभवशाली इंद्रप्रस्थ नगर और युधिष्ठिर के अद्भुत सभा-भवन का निर्माण किया था। मयासुर ने ही त्रिपुर के नाम से प्रसिद्द सोने, चांदी और लोहे के तीन नगरों की रचना की थी जिन्हें भगवान शिव द्वारा ध्वस्त किया गया। लोगों को एक बात चकित करती है कि विश्वकर्मा और मयासुर की उपस्थिति राम के त्रेता युग से कृष्ण के द्वापर युग तक कैसे संभव है। इसका समाधान यह है कि जैसे विश्वामित्र, परशुराम आदि वैदिक ऋषियों के जाने के बाद उनके नाम से उनकी शिष्य परंपराएं युगों तक चलीं, वैसे ही विश्वकर्मा और मय की वंश और शिष्य परंपरायें उनके नाम से हजारों सालों तक निर्माण-कार्य में लगी रहीं।

आज विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर प्राचीन भारत के इस महान अभियंता को नमन !

-लेखक ध्रुव गुप्त पूर्व आईपीएस हैं और वरिष्ठ साहित्यकार हैं ।