अर्धकुंभ में स्नान क्षेत्र के करीब तक स्नानार्थियों को लाने की तैयारी,जनसुविधाये रहेगी चौथे चरण का विषय

शशांक मिश्रा:-

कुम्भ आयोजन का भव्य एवं दिव्य बनाने के संकल्प के साथ समय से सभी कार्यो को उच्च गुणवत्ता के साथ पूरा करा लेने की प्रशासनिक कवायदे जोर पकड़ रही है। लगातार 6 माह पहले से ही कुम्भ के कार्य की योजना प्रारम्भ कर दी गयी है। जिसमें अनेक कार्य जमीनी हकीकत का रूप ले रहे है मुख्यमंत्री से लेकर मण्डलायुक्त के स्तर तक लगातार समीक्षाओं का और प्रत्येक कार्य पर सूक्ष्मता से नजर रखने का नतीजा यह है कि एक वर्ष पहले से ही नगर के भीतर सीमावर्ती क्षेत्रों और बाहरी क्षेत्रों में फ्लाईओवरों के निर्माण कार्य, सड़कों के चौड़ीकरण, पार्किंग तथा पेयजल बिजली की सुविधाओं का विकास तेजी पकड़ने लगा है।

मण्डलायुक्त डॉ. आशीष कुमार गोयल ने कुम्भ के कार्यो को 6 माह पूर्व चरणबद्ध तरीके से स्थापित कराया है जिसमे कार्ययोजना बनाने से लेकर शासन से स्वीकृतियां प्राप्त करने तथा उन पर कार्य प्रारम्भ कर लेने के रूप में कुम्भ आयोजन के तीन चरणों की वित्तीय और सैद्धान्तिक स्वीकृतियां या तो जा चुकी है या अन्तिम चरण मे है। मण्डलायुक्त के नेतृतव में अब चौथे चरण की स्वीकृतियों के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जाना है। इस सम्बन्ध में मण्डलायुक्त ने गांधी सभागार में सभी कार्यदायी विभागों की एक बैठक बुलाकर तृतीय चरण तक के कार्यो की भौतिक प्रगति एवं वित्तीय स्वीकृतियां की स्थिति का जायजा लिया तथा चौथे चरण में कौन से कार्य प्रस्तावित किये गये है इस पर गहनता से विचार किया गया।

इस बार कुम्भ के क्षेत्र को विस्तृत करते हुए हर क्षेत्र से आने वाली जनता तथा पर्यटकों को स्नान क्षेत्र के समीपतम स्थल तक ले जाने बसाने और पार्किग इत्यादि की सुविधाये देने के क्रम में फाफामऊ क्षेत्र में भी मेला क्षेत्र के विस्तारिकरण एवं विकास पर विचार किया। इसी प्रकार कानपुर रोड़ के कैंट क्षेत्र का चौड़ीकरण, फाफामऊ पुल के प्रारम्भिक भाग को सड़क का चौड़ीकरण एवं हण्डिया फूलपुर आदि सभी प्रवेश क्षेत्रों में वाहनों के जाम की समस्या के निकारण करने के लिए व्यापक विचार-विमर्श हुआ।

मण्डलायुक्त ने फूलपुर में कुम्भ के पूर्व बनने वाले फ्लाईओवर के निर्माण के दौरान इस बात पर गम्भीरता से विचार किया कि निर्माण कार्य के दौरान जाम की समस्या से बचने के लिए गोरखपुर की ओर से आने वाली सड़क पर फूलपुर के काफी पहले ही यातायात डायवर्ट कर लिया जाय तथा मुगरावादशाहपुर से ही वो वाहनों को सोरांव होते हुए बाईपास से नीचे उतारकर इलाहाबाद में प्रवेश हेतु ट्राफिक प्लान बनाया जाय जिससे इस निर्माण कार्य में नागारिक सुविधाओं बाधित न हो तथा एक वर्ष के भीतर सर्वाधिक आरओबी तैयार हो जाय।

मण्डलायुक्त ने इलाहाबाद के जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को बैठक में ही एक अपनी ओर से एक पत्र तत्काल भेजने के निर्देश दिये कि जिसमें फूलपुर कस्बे के मध्य के सभी मार्गो को भी ऐसा ट्राफिक प्लान बनाने के निर्देश दिये गये जिससे डार्यवर्जन के माध्यम से ही फ्लाईओवर निर्माण स्थल के क्षेत्र में ट्राफिक जाम से बचा जा सकता है। उन्होंने सेतु निगम एंव पीडब्लूडी विभाग के अभियन्ताओं को निर्देश दिये कि दो माह बाद आगमी माघ मेला में मुख्य स्नान पर्व 14,15 एवं 16 जनवरी 2017 के आस-पास निर्माण कार्य की इस तरह प्लान किया जायेगा कि फूलपुर के उस क्षेत्र में माघ मेले में आने वाले यात्रियों को कोई असुविधा न हो तथा ट्राफिक बंद न हो। आगमी 17 नवम्बर को रेलवे के अधिकारियों के साथ एक समन्वय बैठक में इस बात को रखा जायेगा कि मेला क्षेत्र में शहर के स्टेशनों से गुजरने वाली गाडिया नगर के बाहरी रेलवे स्टशनों यथा झूंसी, फाफामऊ, सूबेदारगंज आदि से चलना प्रारम्भ करे। रेलवे सभी स्टेशन को एक जोन मे रखे तथा इलाहाबाद और लखनऊ के बीच सुपरफास्ट के अलावा नगर के बाकी स्टेशनॆ से मध्यवर्ती स्टेशनों के बीच शटल ट्रेने चलाया जाय।