AMU छात्रनेता ने शिक्षकों को लिखा पत्र : क्यों आप कुलपति-रजिस्ट्रार की चमचागिरी करके खुद को ज़लील कर रहे हैं ?

अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में इन दिनों सोशल मीडिया पर युद्ध छिड़ा हुआ है । पूर्व छात्रसंघ उपाध्यक्ष नदीम अंसारी इन दिनों फेसबुक पर कुलपति और रजिस्ट्रार को टारगेट कर पोस्ट कर रहे हैं। कुलपति को आरएसएस की ड्रेस में दिखाने के बाद अब उन्होंने अमुवि के शिक्षकों के नाम पत्र लिखा है जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है ।

पढ़िए नदीम अंसारी का यह फेसबुक पोस्ट-

#AMU_TEACHERS के नाम मेरा खुला #ख़त….
#AMU TEACHERS COMMUNITY अस्सलामुअलैकुम आप मे से ज़्यादातर लोग ALIG हैं और AMU के बारे में सब कुछ जानते हैं और ये #इदारा किस तरह वुजूद में आया,इसके लिये हमारे अजदाद ने कितनी #कुर्बानियाँ दीं और क़ौम के लिए इस इदारे की क्या #अहमियत है ये आप लोग अच्छी तरह जानते हैं और AMU ही वो वाहिद यूनिवर्सिटी है जिसने एक #मज़दूर की औलाद को भी बड़ा ऑफिसर बना दिया और पूरी दुनिया मे #मुल्क व #मिल्लत का नाम रोशन करने के क़ाबिल बनाया, आज आप लोग जो कुछ भी हैं वो इसी इदारे की बदोलत हैं।

तारीक़ गवाह है कि जब भी किसी ने #AMU की तरफ़ बुरी #नज़र उठाई तो #स्टूडेंट्स_टीचर्स_नॉन टीचिंग और #ओल्ड_बॉयज एक साथ मिलकर अपने इदारे की #इज़्ज़त के लिए खड़े हो गए और हर आने वाली #बला को उल्टे पैर वापस जाना पड़ा,जब AMU की इज़्ज़त की बात आई तो सबने उसे अपनी इज़्ज़त,जान और माल से बढ़कर समझा और AMU का सर हमेशा फक्र से #बुलंद रहा अल्हम्दुलिल्लाह। मगर जबसे संघ के एजेंट #तारिक़_मन्सूर VC बने तबसे हमने देखा कि टीचर्स कम्युनिटी उनके सामने अपना सर #ख़म करके खड़ी हो गयी और उनके हर #गलत काम और ग़लत #फैसले में उनका साथ देने लगी। धीरे धीरे उन्होंने AMU का हाल एक चुंगी के स्कूल से बदतर कर दिया और #गुंडई पर उतर आए ये सब इसलिए हुआ क्योंकि वो जान गए के वो कुछ भी करें मग़र आप लोगों में से कोई आवाज़ नही उठाएगा। और सोने वे सुहागा वो अब्दुल हामिद को रजिस्ट्रार बना कर ले आये जिनके बारे में अगर आपको जानना है तो जहां जहां उनकी पोस्टिंग रही है वहां पता कर लें कि उन पर कोन कोनसे चार्ज लगे हैं।

#VC_REGISTRAR से आप लोग इतना डर गए के उनके सामने या पीछे हक़ बोलना और हक़ पर चलना छोड़ दिया आप लोगों ने। सब मिल कर चमचागिरी में लग गए और हर कोई बस उनकी नज़र में अपने #नंबर बढ़ाने और #पोस्ट पाने की जुगत में लग गया जिसका नतीजा ये हुआ कि वीसी- रजिस्ट्रार आप लोगों को अपना पालतू #ग़ुलाम समझने लगे और आप लोगों को अपने मफाद के लिए इस्तेमाल करने लगे और अपने #आक़ाओं को खुश करने के लिए उन दोनों ने हर वो काम किया जो AMU के हक़ में नही था।

जितना आप लोग वीसी-रजिस्ट्रार से डरते हैं और उनकी ख़ुशामद में लगे रहते हैं इतना अगर आप लोग जानमाज़ पर #अल्लाह के सामने गिड़गिड़ा लेते तो सब कुछ मिल जाता और किसी इंसान की ख़ुशामद या चमचागिरी नही करनी पड़ती। मेरा ईमान है कि अल्लाह की मर्ज़ी के बिना हम एक क़दम भी नही चल सकते तो कोई पोस्ट मिलना तो दूर की बात है और बेशक अल्लाह ही #रिज़्क़ देने वाला है किसी इंसान के बस का नही के वो आपकी रोज़ी छीन ले तो क्यों आप लोग वीसी-रजिस्ट्रार की चमचागिरी करके खुदको #ज़लील कर रहे हैं। आप लोग याद कीजिये पुलिस से AMU में इतना बड़ा #ज़ुल्म करवा कर भी जब भी CHAIRMANS/DEANS/TEACHERS की मीटिंग हुई तो VC साहब ने बार बार कहा कि में फिर से #कैंपस में #पुलिस बुलवाऊंगा। आप याद केजिये के इतनी ख़ुशामद के बाद भी आपको लोगों को क्या हासिल है और क्या VC की नज़र में आप लोगों की कोई इज़्ज़त या #अहमियत है। वो जब चाहते हैं किसी भी #टीचर को बुला कर फटकार देते हैं भारी #महफ़िल में बे इज़्ज़त कर देते हैं उसके बावजूद भी तो लोग अपने #ज़मीर से, #सर_सैयद अलेरहमा की रूह से, इस #मादरे_दर्सगाह से, अपने ही #स्टूडेंट्स से और #इस्लाम के उसूलो से #धोका और #फ़रेब कर रहे हैं वो भी उस शक़्स (VC) के लिए जिसने आज तक किसी से #वफ़ा नही की, सिर्फ अपने मलतब के लिए इस्तेमाल किया और लात मार दी।

मेरे मोहतरम असताज़ाक़राम अभी भी वक़्त है  हमारा साथ दीजिये,  अपने इदारे का साथ दीजिये, क़ौम का साथ दीजिये और  हक़ का साथ दीजिये, छोड़ दीजिए इस मक्कार VC और रजिस्ट्रार का साथ। क्योंकि हम AMU में कोई #एग्जाम, कोई #क्लास और कोई काम तब तक नही होने देंगे जब तक ये VC-REGISTRAR रिजाइन देकर AMU नही छोड़ देते। और अगर अबकी बार कैंपस में #पुलिस आयी तो कोई स्टूडेंट भागेगा नही बल्कि पुलिस को हमारी #हज़ारों_लाशों से गुज़र कर आगे बढ़ना होगा।

अगर आप लोग ये चाहते हैं कि आपके अपने हज़ारो स्टूडेंट्स पुलिस की गोली से मारे जाएं तो हम इसके लिए #तैयार हैं मगर #हश्र के दिन आप सबका दामन होगा और हम स्टूडेंट्स का हाथ होगा, याद रखना वहाँ क्या जवाब दोगे। इसलिए मेरी सभी टीचर्स से गुजारिश है कि सभी लोग #प्रो_प्रॉक्टर की पोस्ट से और VC ने जो भी पोस्ट दीं हैं उन सबसे रेज़ाइन करके AMU का साथ दें ताकि आने वाली नसले फक्र से ये कहें कि जब AMU के दुश्मन तारिक़ मंसूर और अब्दुल हामिद VC REGISTRAR थे तब स्टूडेंट्स और टीचर्स, नॉन टीचिंग और ओल्ड बॉयज ने मिलकर उनको रेज़ाइन करने पर मजबूर कर दिया था और उनको ये यूनिवर्सिटी छोड़ कर जाना पड़ा था।

कोई भी टीचर् बराए मेहेरबानी क्लास ना लें और ना एग्जाम डयूटी में आएं क्योंकि स्टूडेंट्स अब तब तक कुछ नही होने देंगे जब तक ये दोनों #याजूज_माजूज AMU नही छोड़ देते।