AMU में आतंकी मन्नान के समर्थन में देशविरोधी नारे लगाने वाले 2 छात्रों पर देशद्रोह का केस दर्ज, खुफिया रडार पर अलीगढ़

अलीगढ़ । जम्मू कश्मीर में आतंकी मन्नान वानी के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद अब अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में माहौल गर्म है ।आतंकी मन्नान चूंकि अमुवि का रिसर्च स्कॉलर रहा है, इसलिए यहां के कश्मीरी छात्रों ने उसके समर्थन में सभा करने का प्रयास कर नारेबाजी भी की है । अलीगढ़ पुलिस ने कश्मीर के दो छात्रों पर देशविरोधी नारेबाजी करने के मामले में देशद्रोह का मुकद्दमा भी दर्ज किया है । देशद्रोह का मामला दर्ज होते ही राष्ट्रीय मीडिया में यह मामला चर्चा का विषय बन गया है ।खुफिया एजेंसियों ने भी अलीगढ़ को राडार पर ले लिया है ।

एसएसपी अजय साहनी ने बताया की मेडिकल चौकी इंचार्ज इसरार अहमद के द्वारा एएमयू से बायोकेमेस्ट्री से पीएचडी कर रहे वसीम अयुब मलिक और इतिहास के छात्र अब्दुल हसीद मीर के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हुआ है। पुलिस सूत्रों की माने तो कभी भी पुलिस इन छात्रों को गिरफ्तार कर सकती है ।

AMU में लगे ‘लेकर रहेंगे आजादी’ के नारे, आईबी अलर्ट-
बता दें कि हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकी संगठन में शामिल होने के बाद वाणी सेना के निशाने पर आ गया था बृहस्पतिवार सुबह सेना के जवानों ने एक मुठभेड़ के दौरान मन्नान वानी को मार गिराया इसकी सूचना जब अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय पहुंची तो यहा पढ़ने वाले कश्मीरी छात्र भारी मायूस नजर आए।

जनाजे की नमाज पढ़ने का प्रयास, तीन छात्र निलंबित-
शाम में उन्होंने जनाजे की नमाज पढ़ने का भी प्रयास किया हालांकि नमाज पढ़ने से पहले ही अन्य छात्रों व इंतजामियां के अधिकारियों और बुलो ने उन्हें रोक दिया। जबरन नमाज पढ़ने का प्रयास कर रहे तीन छात्रों निलंबित करने के साथ 5 छात्रों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है बताया जा रहा है कि इंतजामियां के नमाज़ पढ़ने से रोकने व मन्नान वानी की मौत से क्षुब्ध कश्मीरी छात्रों ने आजादी के नारे लगाए।

उन्होंने कहा कि हम आजादी लेकर रहेंगे। एएमयू कैम्पस में आजादी के नारे लगने से इंतजामिया में खलबली मच गई। इंटेलिजेंस ब्यूरो की ओर से हाईकमान को स्थिति से अवगत कराया गया। बता दें कि इससे पूर्व पिछले दिनों मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर हुए विवाद के बाद एएमयू पहुंचे कश्मीरी छात्रों ने आजादी के नारे लगाए थे।