AMU से देशविरोधी नारेबाजी के आरोप लगाकर निलंबित किये गए कश्मीरी छात्र बहाल, गवर्नर ने जताई थी चिंता

अलीगढ़ । कथित रूप से देशविरोधी नारेबाजी और आतंकी मन्नान के समर्थन को लेकर एएमयू से निलंबित किये गए दो कश्मीरी छात्रों का निलंबन अमुवि प्रशासन ने वापिस ले लिया है । पिछले कई दिन से अलीगढ़ से लेकर कश्मीर तक मीडिया में यह मामला सुर्खियों में था । छात्रों के विरोध प्रदर्शन और मामले की सुर्खियां बनने के बाद एएमयू इंतजामिया बैकफुट पर आता दिख रहा है। जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सतपाल मालिक के हस्तक्षेप के बाद अमुवि प्रशासन बैकफुट पर आ गया और निलंबन वापिस ले लिया ।

एएमयू प्रबंधन ने जांच समिति की रिपोर्ट मिलने के बाद निलंबित दोनों कश्मीरी छात्रों को बहाल कर दिया गया है। जिन छात्रों को नोटिस दिया गया था, उन्होंने भी जवाब दे दिया है। गौरतलब है कि कश्मीरी छात्रों में रोष था वे आये दिन प्रदर्शन करने के बाद डिग्रियां लौटकर वापस जाने की धमकी दे रहे थे। सोमवार को फैक्ट फाइंडिंग की कमेटी में खुलासा हुआ कि नोटिस कुछ ऐसे छात्रों को जारी कर दिए गए हैं। जो अब विश्विद्यालय के छात्र ही नहीं हैं। ऐसे में पांच छात्रों से नोटिस ले लिये गए। कमेटी की जांच रिपोर्ट मंगलवार को कुलपति के सामने पेश की गई। देर रात मंथन के बाद प्रबंधन ने दोनों छात्रों वसीम अय्यूब मलिक, पीएचडी बायोकेमिस्ट्री और अब्दुल हसीब मीर को बहाल कर दिया।

बताते चलें कि मंगलवार को अमुवि के पूर्व छात्रों के सम्मेलन के दौरान कश्मीरी छात्रों ने मुंह पर पट्टी बांधकर विरोध दर्ज कराया था । जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सतपाल मालिक के हस्तक्षेप के बाद मामला में प्रशासन बैकफुट पर आ गया । राज्यपाल ने कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा हेतु चिंता भी जाहिर की थी ।