PM मोदी के खिलाफ तोगड़िया को बोलना पड़ा भारी, विश्व हिन्दू परिषद् से छुट्टी

शशांक मिश्रा/इलाहाबाद | देशभर में ही हिंदुत्व के फायरब्रांड नेता डॉ प्रवीन तोगड़िया को पीएम मोदी पर निशाना साधना भारी पड़ रहा है | विहिप से उनकी छुट्टी तय मानी जा रही है माघ मेले में पिछले कुछ रोज से संत सम्मेलन की तैयारियों का दायित्व निभा रहे पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री एवं विश्व हिंदू परिषद के मार्ग दर्शक मंडल के सदस्य स्वामी चिन्मयानंद ने शुक्रवार को बताया डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया अब विहिप के नहीं रहे। उन्होंने विहिप से नाता तोड़ लिया है। विहिप की ओर से माघ मेला शिविर में आयोजित संत सम्मेलन में परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. प्रवीण तोगड़िया की अनुपस्थिति को लेकर तमाम सवाल उठ रहे थे। विहिप के केंद्रीय मार्ग दर्शक सदस्य स्वामी चिन्मयानंद से इसके विधी में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि डॉ. तोगड़िया अब विहिप के नहीं रहे हैं। उन्होंने खुद ही विहिप छोड़ दी है | संगठन के आचरण एवं विचार का डॉ. तोगड़िया ने अनुसरण नहीं किया। उन्होंने खुद ही विरोध का रास्ता अख्तियार किया और संगठन के सारे दायित्व छोड़ दिए। ऐसे में अब वे विहिप के सदस्य नहीं है। उनका संगठन से किसी भी तरह का नाता नहीं रहा।

विहिप राजनीतिक नहीं, बल्कि सांस्कृतिक एवं सामाजिक संगठन है। यह साधु संतों के मार्गदर्शन में काम करता है। स्वामी चिन्मयानंद ने बताया प्रवीण तोगड़िया ने पीएम नरेंद्र मोदी का भी विरोध किया। इलाहाबाद में आयोजित संत सम्मेलन में भी उन्हें शामिल होने का न्यौता भेजा गया था, लेकिन वे इस कार्यक्रम में नहीं आए। अच्छा रहा कि उन्होंने खुद ही विहिप छोड़ दी। तोगड़िया की ओर से अभी इसपर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है | लेकिन हिंदुवादियों नेताओं में अंदरखाने इसका विरोध पनप रहा है |