इलाहाबाद : माघ मेले में राष्ट्रीय खादी एवं ग्रामोद्योग प्रदर्शनी का हुआ आयोजन

शशांक मिश्रा/ इलाहाबाद | प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी उ0प्र0 खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड के सौजन्य से परेड ग्राउन्ड त्रिवेणी रोड किले के सामने इलाहाबाद में ‘‘राष्ट्रीय खादी तथा ग्रामोद्योग प्रदर्शनी माघ मेला 2018‘‘ आयोजित किया जा रहा है, जो एक माह लगातार चलेगा। इस प्रदर्शनी में उत्तर-प्रदेश के अतिरिक्त अन्य प्रदेशो जैसे- जम्मू कश्मीर, बिहार, झारखण्ड, पश्चिम बंगाल, उत्तराखण्ड, मध्य प्रदेश एवं राजस्थान आदि स्थानों से खादी एवं ग्रामोद्योगी इकाईयों द्वारा प्रतिभाग किया गया है जिसमे टसर-सिल्क, मटका, कोसा सिल्क, गरद, मूगां सिल्क, कटिया से साथ-साथ कश्मीर के हस्तशिल्प सूती ऊनी एवं पश्मीना शाल तथा उत्तराखण्ड के थुलमा, चटका , नन्दां एवं अन्य ऊनी वस्त्र, मधुबनी बिहार की मसलिन खादी, पश्चिम बगांल की चन्देरी साडी, बीकानेरी नमकीन इत्यादि विभिन्न प्रकार के खादी एवं ग्रामोद्योगी उत्पादों का प्रदर्शन किया गया जो पूरे प्रदर्शनी अवधि मे विशेष आकषर्ण का केन्द्र बना हुआ है।

सांस्कृतिक कार्यक्रम मे रत्नेश दुबे व साथी कलाकारों द्वारा शुरूवात में गणेश वन्दना, गगां मईया गीत, भजन, गज़ल व सूफी गीत की प्रस्तुति की गयी जो शानदार रही। कलाकारों ने दर्शकों का खूब मनोरंजन कराया। प्रदर्शनी स्थल का सांस्कृतिक पंडाल खचाखच भरा हुआ था तालियों की गड़गडाहट से पूरा पंडाल गूंज रहा था। जन समुदाय द्वारा भव्य प्रदर्शनी का अवलोकन किया गया एवं अपनी-अपनी आवश्यकताओं को देखते हुए जमकर खरीददारी की गयी। रामजी, जिला अग्रणी प्रबन्धक बैक आफ बडौदा इलाहाबाद द्वारा प्रदर्शनी का अवलोकन किया गया तथा प्रदर्शनी की भूरि भूरि प्रशंसा की गयी।

प्रदर्शनी में राम औतार यादव, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी व लालजी घुरिया, मनीष कुमार, सुनील कुमार, मो0 खालिद, गिरजा शंकर पाण्डे, मुन्नी शुक्ला, रामलाल आदि उपस्थि रहे। प्राप्त आकड़ों के अनुसार दिनांक – 24-1-2018 तक प्रदर्शनी की खादी बिक्री रु0 47.25 लाख तथा ग्रामोद्योगी वस्तुओं की बिक्री रु0 10.35 लाख एवं कुल रु0 57.60 लाख रही। यह प्रदर्शनी 12 फरवरी 2018 तक माघ मेला का आकर्षण का केन्द्र बने रहने की संभावना है!