इलाहाबाद : डिप्टी सीएम केशव ने की विकास कार्यों की समीक्षा, जमीनी हकीकत जानने के अफसरों को दिए निर्देश

शशांक मिश्रा / इलाहाबाद | उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने अपने इलाहाबाद भ्रमण के दौरान आज कलेक्ट्रेट सभागार मे जनपद के विकास के सम्बन्ध में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक किये। उन्होंने बैठक में विभागों के अधिकारियों को स्पष्ट शब्दों में निर्देशित किया कि समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित किया जाय तथा शहर एवं ग्रामीण क्षेत्र में रह रहे गरीबों को सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं से लाभाविन्त किया जाय। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि ब्लाक एवं थाने पर समस्याओं का समाधान सुनिश्चित किया जाय जिससे कि लोगों को अपनी समस्याओं के निदान के लिए और कहीं भटकने की जरूरत न पड़े।

उप मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यो की समीक्षा करते हुए चिकित्सकों की उपस्थिति पर गहन चर्चा की तथा मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया स्वास्थ्य विभाग से सम्बन्धित कार्यो की एक कार्ययोजना बनाकर प्रस्तुत करे जिससे स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओ को दूर करे स्वास्थ्य सेवाओं को और बेहतर किया जा सके। इसी तरह उन्होंने अस्पतालोँ में दवाओं की उपलब्धता पर भी जोर दिया और कहा कि अस्तपतालाँ में दवायें पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहे। उन्होंने निर्देशित किया कि स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक केन्द्रो, आगनवाडी केन्द्रों, अस्पतालों का औचक निरीक्षण किया जाय तथा औचक निरीक्षण के दौरान स्वास्थ्य सेवाओं को देखा जाय तथा चिकित्सको के द्वारा दी जा रही सेवाओं का भी मौके पर देखा जाय। मा. उप मुख्यमंत्री जी ने कहा कि ओडीएफ के कार्यो को तीव्र गति से किया जाय इसके किसी प्रकार की हीलाहवाली न किया जाय। उन्होंने कहा कि ओडीएफ घोषित हो रहे क्षेत्रों का औचक निरीक्षण किया जाय तथा कागजों पर ओडीएफ घोषित होने एवं स्थल पर ओडीएफ न होने की दशा मे सम्बन्धित लोगों के खिलाफ कार्रवाही की जाय। पात्र व्यक्तियों को ही पेशन दी जाय, पात्र व्यक्तियों की सूची बनाते हुए उन्हें पेशन योजनाओ से लाभान्वित किया जाय।इसी तरह दिव्यांगजनों को चिन्हित कर उन्हें भी पेशन योजनाओ से लाभाविन्त किया जाय। उन्होंने कहा कि शहर में लुप्त हो रही नदियों को चिन्हित कर मनरेगा के माध्यम से कार्य कराये जाय। उन्होंने कहा कि नहरो में पर्याप्त मात्रा में पानी रहे इसकी व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। नलकूप चल रहे इस बात की भी चर्चा उन्होंने अभियनताओं से की और उन्होंने निर्देशित किया कि रिबोर कराने के लिए प्रस्ताव भेजे जाय जिससे नलकूपों का लाभ लोगों को मिल सके। उप मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री सडक योजना के तहत बनायी जा रही सड़को की भी समीक्षा की और कहा कि सड़को की गुणवत्ता के साथ किसी भी प्रकार कोई समस्या न हो। उन्होने यह भी कहा कि गुणवत्ता के साथ खिलवाड करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाही भी की जाय। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि योजनाओ के प्रगति की जानकारी जनप्रतिनिधियों को भी अवगत कराये जाये जिससे वे आने वाले लोगों को इसके बारे मे बता सके।

उप मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम की समीक्षा करते हुए निर्देशित किया कि राशन का वितरण नही रूकना चाहिए तथा राशन की दुकानों के शिकायतों का भी निस्तारण सुनिश्चित किया जाय। लोक निर्माण विभाग के द्वारा कराये जा रहे कार्यो की समीक्षा में अधिकारियों को निर्देशित किया कि निर्माण की जा रही सड़कों को तेजी से कार्य किया जाय तथा कार्यो को पूरा करने में समय के साथ गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाय। सेतु निगम के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए उप मुख्यमंत्री ने कहा कि कार्यो को तीव्र गति से किया जाय तथा इस बात का भी ध्यान दिया जाय कि कार्यो से आवागमन में लोगों समस्यायें न उत्पन्न न हो। बेसिक शिक्षा विभाग की समीक्षा में स्कूलों मे बच्चों की उपस्थिति पर चर्चा की तथा बच्चो को दी जा रही शिक्षा एवं मिड वे मील पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि मिड वे मील में कराये जा रहे भोजन की जांच स्वयं अधिकारी बच्चों के साथ भोजन कर करे जिससे कि भोजन की गुणवत्ता में सुधार लाया जा सके।

बिजली विभाग के कार्यो की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि ट्रांसफार्मर की उपलब्धता बढायी जाय जिससे कि बिजली की कटौती को कम किया जा सके। कैम्प लगाकर लोगों को कनेक्शन दिये जाय। बिजली विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि समस्याओं का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर किया जाय।