इलाहाबाद : कल्पवासियों और संत महात्माओं की समस्याओं को जानने पहुंचे डीएम-कमिश्नर

शशांक मिश्रा/इलाहाबाद | अवकाश के दिन शुक्रवार को इलाहाबाद प्रशासन के प्रमुख अधिकारी माघ मेला में पूरे दिन भ्रमण हुए कल्पवासियों के बाड़ो तथा साधु संतों के अखाड़ों में पहुंच कर उनकी जरूरतों को नजदीक से पहचानते रहे और उनका निराकरण करने के लए तत्काल निर्णय लेकर व्यवस्थायें भी करते रहे। मण्डलायुक्त डॉ. आशीष कुमार गोयल की पहल पर जनपद के सभी प्रमुख अधिकारी जिसमें जिलाधिकारी सुहास एल.वाई., मेलाधिकारी विजय किरन आनंद तथा एसडीएम मेला राजीव राय शामिल थे, अलग-अलग क्षेत्र में भ्रमण कर कल्पवासियों, स्नानार्थियों और संत महात्माओं से उनका हाल पूछते रहे। मण्डलायुक्त ने जिलाधिकारी, अपर जिला मजिस्ट्रेट (नगर), मुख्य चिकित्साधिकारी तथा एसडीएम मेला के साथ अऩ्य सभी प्रमुख विभागों के अधिकारियों को मेला क्षेत्र स्थित कैम्प कार्यालय के सभागार में तलब किया। मण्डलायुक्त ने बैठक में मेले की हर छोटी-बड़ी असुविधाओं की जानकारी सीधे मेला के सभी सेक्टर मजिस्ट्रटों से एक-एक कर ली तथा उनकी व्यवस्थाओं का ब्यौरा लिया। व्यवस्थाओं मे कहीं भी कमी दिखायी देने पर उन्होंने सेक्टर मजिस्ट्रेट और अधिकारियों के पेच भी कसे।

विशेष तौर पर गंगदीप में शौचालय की कमी दूर करने के लिए जिलाधिकारी ने सीएमओ और मेला प्रशासन को कड़े निर्देश दिये गये। सीएमओ के द्वारा यह अवगत कराये जाने पर कि गंगदीप में नदी की दो धाराओ के चलते होने वाली भौतिक कठिनाई के कारण मुख्य सर्किल से जोड़कर कार्य करने के में कठिनाई आ रही है। इस पर मण्डलायुक्त ने गंगदीप का एक नया सर्किल निर्मित करते हुए वहां तत्काल एक अतिरिक्त सर्किल इंचार्ज की तैनाती करने तथा शौचालयों की संख्या और सफाई कर्मियों की गैंग बढ़ा देने का निर्देश दिया। सीएमओ द्वारा यह अवगत कराया गया कि उक्त निर्देश के अनुपालन में गंगदीप को अलग सर्किल के रूप में लेते हुए वहां सर्किल इंचार्ज की तैनाती कर दी गयी है। इसी तरह पूर्व में पहले से कार्यरत 06 सफाईकर्मयों की गैंग के स्थान पर 10 सफाईकर्मियों की गैंग आज से लगा दी गयी है। शीघ्र ही गंगदीप में सुलभ शौचालय के 10 शीट वाले 13 सेट के कुल 130 शौचालय क्रियाशील कर दिये जायेंगे। जिस पर आज सायंकाल से ही कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। सीएमओ ने बताया कि मण्डलायुक्त के निर्देश के अनुपालन में गंगदीप में सफाई और शौचालय की व्यवस्था विलम्बतम 1 या 2 दिवसों में पटरी पर ला दी जायेगी।

इसी तरह पूरे गंगदीप को अन्य सभी व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखने के लिए नये सेक्टर मजिस्ट्रेट की तैनाती किये जाने के निर्देश मण्डलायुक्त ने तत्काल दिये, जिसके अनुपालन में आज सायं तक मेला कार्य के लिए नियुक्त खागा, फतेहपुर के नायब तहसीलदार श्री कुशवाहा को गंगदीप का नया सेक्टर मजिस्ट्रेट नियुक्त कर दिया गया है। ज्ञातव्य है कि मण्डलायुक्त द्वारा ली गयी बैठक में मेला क्षेत्र के सभी पांच सेक्टरों के सेक्टर मजिस्ट्रेटों से जानकारी ली गयी थी, जिसमें यह तथ्य प्रकाश में आया था कि गंगदीप सेक्टर-2 का हिस्सा है किन्तु नदी की वजह से अलग-थलग पड़ जाने के कारण गंगदीप में कई व्यवस्थाओ को करने में कठिनाई आ रही थी। मण्डलायुक्त ने इसका संज्ञान लेते हुए तत्काल न केवल समस्त व्यवस्थाओं यथा बिजली, जलापूर्ति एवं खाद्य-रसद आदि की सुचारू व्यवस्था के लिए गंगदीप में एक अलग सेक्टर मजिस्ट्रेट की तैनाती कि बल्कि स्वच्छता आदि व्यवस्थाओं को भी अपेक्षित रूप से पूरा कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग के गंगदीप वाले सर्किल में नया सर्किल इंचार्ज भी नियुक्त करवा दिया जिससे मुख्य व्यवस्थाओं के साथ गंगदीप में स्वच्छता एवं शौचालयों की जरूरते भी पूरी हो सके।

बैठक में समीक्षा किये जाने के उपरान्त मण्डलायुक्त, जिलाधिकारी, मेलाधिकारी ने पूरे मेला क्षेत्र को अलग-अलग स्वयं जाकर देखने की योजना बनायी तथा पूरे दिन मण्डलायुक्त स्वयं गंगदीप वाले सेक्टर 2 में भ्रमण करते रहे तथा सेक्टर 3 एवं 4 में जिलाधिकारी भ्रमण करते रहे। इसी प्रकार अन्य क्षेत्रो में अधिकारियों ने भ्रमण कर वहां मेला क्षेत्र की जरूरतों को नजदीक से देखा और उन्हें और बेहतर बनाने की योजना बनाते हुए उस पर अमल के निर्देश दिये। गंगदीप में मण्डलायुक्त ने साधु संतों के अखाड़ों में पहुंच कर उन्हें अपना परिचय देते हुए उनका हाल पूछा और उनके साथ चल रहे एडीएम सिटी तथा एसडीएम मेला को आवश्यक दिशा निर्देश भी देते रहे। कल्पवास करने वाले कल्पवासियों के कैम्पों में जाकर भी मण्डलायुक्त ने उनके साथ समय बिताया और उनकी जरूरतो को सुनकर साथ चल रहे प्रभारी माघ मेला राजीव राय को तत्काल उनकी समस्याएं दूर करने के निर्देश दिये।

इसी प्रकार जिलाधिकारी ने भी सिटी मजिस्ट्रेट तथा सीएमओ के साथ सेक्टर 3 एवं 4 के कल्पवासियों के कैम्पों में जाकर कल्पवासियों से आत्मीय तौर उनके रहन सहन की जानकारी ली और उनकी जरूरते पूछीं। जिलाधिकारी कल्पवासियों के अलावा संत महात्माओं के आश्रम में भी गये तथा उनका आशीर्वाद लेते हुए उनकी सामान्य जरूरते तथा सुविधाओं के बारे में जानकारी ली तथा उसे शीघ्र पूरा करने का निर्देश तत्तसमय ही दिये। संत महात्माओं और कल्पवासियों से उनके कैम्पों में जाकर उनका हाल जानने के दौरान अधिकारियों ने मूल रूप से शौचालय, पेयजल और स्वच्छता सम्बन्धी व्यवस्थाओं का न केवल गहराई से स्थलीय मुआयना किया बल्कि व्यवस्थाओं में यथासम्भव सुधार करने के लिए तत्समय ही निर्देश भी दिये।