इलाहाबाद : शिकायतों को टालने की प्रथा समाप्त कर जमीनी स्तर पर करें निस्तारण- डीएम

शशांक मिश्रा/ इलाहाबाद | सम्पूर्ण समाधान दिवस पर आने वाली शिकायतों को सिर्फ कागज का टुकडा न समझे बल्कि कागज में लिखी उसकी शिकायतों को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित करते हुए शिकायकर्ता को भी निस्तारण आख्या से अवगत कराया जाय। उक्त दिशा निर्देश आज तहसील सोरांव के सम्पूर्ण समाधान दिवस में जिलाधिकारी सुहास एल.वाई. ने सभी अधिकारियों को दिये। उन्होंने यह स्पष्ट रूप से कहा कि शिकायतों को टालने की प्रथा को समाप्त कर उसे जमीनी स्तर पर जाकर निस्तारित करे। समाधान दिवस पर भूमि सम्बन्धी शिकायतों पर लेखपालों द्वारा कार्यो में हीलाहवाली करने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि लेखपालों को उनके द्वारा किये गये कार्यो के प्रति जवाबदेह बनाया जाय।

सम्पूर्ण समाधान दिवस में जिलाधिकारी के समक्ष अधिवक्ताओं ने अपनी समस्याओं को सामने रखा जिस पर जिलाधिकारी ने उन्हे समस्याओं के निस्तारण हेतु आश्वस्त किया। कछार परगना नवाबगंज के ग्राम सभा की भूमि पर धोखे से नामदर्ज कराकर विक्रय व कब्जा दिलाने की शिकायत जिलाधिकारी महोदय से की गयी जिस पर जिलाधिकारी ने तहसीलदार को मौके पर जाकर जांच आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि समस्याओं का निस्तारण सिर्फ कागजों पर न हो बल्कि जमीनी स्तर पर जाकर समस्याओं को निस्तारित किया जाने के साथ शिकायतकर्ता को भी अवगत कराया जाय।

समाधान दिवस में राजस्व से सम्बन्धित मामलें सर्वाधिक आये जिस पर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को मौके पर ही दिशा निर्देश देते हुए समस्याओं को निस्तारित करने को कहा है। जिलाधिकारी ने समाधान दिवस में आये फरियादियों के पास खुद जाकर शिकायती प्रार्थना पत्र लेकर सुनी और उन्हें इस बात के लिए भी आश्वस्त किया कि शिकायतों का निस्तारण समयबद्ध एवं गुणवत्ता पूर्ण ढंग से किया जायेगा।