गाजियाबाद में मासूम की पिटाई पर पसीजा अलका लांबा का दिल, लिखा- ‘कोशिश है एक बार इस तक पहुँच पाऊँ, माँ का दिल जो रखती हूँ’

नई दिल्ली | गाजियाबाद में मंदिर में पानी पीने मासूम मुस्लिम बच्चे की पिटाई का मामला देशभर की सुर्ख़ियों में है | मासूम बच्चे को लेकर तमाम तरह की चिंताएं हैं | वहीँ , कांग्रेस नेत्री अलका लांबा ने ट्वीट कर मासूम से मिलने की इच्छा जाहिर की है | लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद उसके किसी परिचित का नंबर नहीं हासिल कर सकीं | अलका लांबा ने ट्वीट कर अपनी पीड़ा भी व्यक्त की |

अलका लांबा ने ट्वीट किया कि- मैं भी बस इसी चिंता में थी कि इस बेकसूर बच्चे की मानसिक दशा क्या होगी, कितनी चोटें आई होंगी, इलाज मिला होगा के नहीं,मासूम बच्चा दर्द में होगा.. ख़ूब खोजा, बहुतों से बात भी हुई पर कोई भी बच्चे का पता नहीं बता पाया, बस कोशिश रही कि एक बार इस तक पहुँच पाऊँ. #MaaKaDil जो रखती हूँ 🙁

अलका लांबा ने मासूम के मामले पर इससे पहले लिखा था कि- मासूम बच्चा (मुस्लिम) जिंदा बच गया और मारने वाला कटर देश-भक्त और कटर-हिन्दू राष्ट्रवादी बनते बनते रह गया… बोले नाथूराम गोडसे जिंदाबाद, आज नहीं तो कल होगा काम तमाम. बधाई नरेंद्र मोदी जी.

वहीँ, अलका ने वसीम रिजवी पर ट्वीट किया कि- आज पहली बार BJP, RSS ख़ास कर अंधभक्तों को किसी मुस्लिम के लिए यूँ खुल कर बोलते, उसके समर्थन में ट्विटर पर ट्रेंड #मैंवसीमरिज़वीकेसाथ_हूँ करते हुए देख रही हूँ, यहीं से समझ जाइए की दाल में कुछ काला है. “फूट डालो राज करो” संघ की नीति अंग्रेजों के समय से ही रही है. #कुरान