हाथरस गैंगरेप केस : अलीगढ के कांग्रेस नेता श्योराज जीवन हिरासत में, भड़काऊ भाषण देने का है आरोप

अलीगढ | यूपी के अलीगढ से बड़ी खबर सामने आ रही है | हाथरस कांड पर भड़काऊ और हिंसक बयान देने वाले कांग्रेस नेता श्योराज जीवन को गुरुवार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ कर रही है। मालूम हो कि मृतका के परिजनों से मिलने गए श्योराज जीवन के भड़काऊ बयान का वीडियो वायरल होने के बाद बुधवार को पुलिस ने उनके खिलाफ संगीन धाराओं में केस दर्ज किया था। हालांकि वीडियो को लेकर श्योराज का कहना है कि मीडिया ने उन्हें सबसे बड़ा देशद्रोही बना दिया है। वह संविधान का पालन करते हैं इसलिए समन मिलने पर थाने में अपना बयान दर्ज कराने आए हैं। थाने में आरोपों को लेकर पुलिस ने उनसे शुरुआती पूछताछ की। इसके बाद उन्हें हिरासत में ले लिया।

मालूम हो कि हाथरस के कथित सामूहिक दुष्कर्म की आड़ में दंगा फैलाने की साजिश को लेकर आरोप-प्रत्यारोपों के बीच कांग्रेस नेता श्योराज जीवन का एक भड़काऊ वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में श्योराज आरोपियों के हाथ काटने, आंख निकालने की धमकी देते नजर आ रहे हैं।  एक टीवी चैनल द्वारा किए गए स्टिंग ऑपरेशन में श्योराज जीवन हाथरस कांड को लेकर जातीय दंगा भड़काने वाली बातें कहते दिखाई दे रहे हैं। स्टिंग के दौरान वे यहां तक कह गए कि कोई 5-6 लाख रुपये दे तो वे दंगे की पूरी योजना तैयार कर लेंगे। वहीं, श्योराज जीवन ने इसे गहरी साजिश करार दिया है।  बुधवार सुबह 10 बजे टीवी चैनल ने जब यह स्टिंग ऑपरेशन संबंधी न्यूज दिखाई तो अलीगढ़ से लेकर हाथरस और दिल्ली तक हलचल मच गई थी। एक तरफ जहां हाथरस पुलिस हरकत में आ गई थी, तो वहीं श्यौराज जीवन के पैरों तले जमीन खिसक गई। तमाम मीडियाकर्मियों का जमावड़ा उनके घर पर लग गया था।

इस दौरान श्योराज जीवन ने स्टिंग ऑपरेशन को लेकर बताया कि उन्हें बड़ी साजिश के तहत फंसाया गया है। उन्होंने कहा कि पांच अक्तूबर को अमित नाम के एक व्यक्ति का फोन उनके पास आया था। उसने कहा कि वह मिलना चाहता है। इस पर अमित को अचलताल स्थित वाल्मीकि मंदिर कार्यालय पर बुलाया। कार्यालय पर आकर अमित ने कहा कि वह उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए काम कर रहे संगठनों से जुड़ा हुआ है। इस काम के लिए वह पांच करोड़ रुपये उनको भी दे सकता है। अगर वह योगी सरकार को उखाड़ फेंकने में मदद करें।

श्योराज जीवन ने कहा, अमित की बातें सुनकर पहले तो उनको शक हुआ, कहीं यह युवक प्रदेश में दंगा भड़काने वाले असामाजिक तत्वों से न मिला हुआ हो। पुलिस को सूचित करने के लिए थोड़ा समय चाहिए था, इसलिए युवक को बातों में उलझाए रखा और उसके सुर से सुर मिलाना शुरू कर दिया। बातचीत के बाद अमित ने अगले दिन मिलने की बात कही। कांग्रेसी नेता श्योराज जीवन ने कहा कि इसके तुरंत बाद उन्होंने एडीजी और अन्य आला पुलिस अधिकारियों से संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन संपर्क नहीं हो सका। उनको एसएमएस भेजकर पूरे मामले से सूचित किया कि कुछ असामाजिक तत्व प्रदेश में दंगा फैलाना चाहते हैं। इसके बाद अगली सुबह एडीजी अजय आनंद से बात की और उन्हें पूरे प्रकरण से अवगत कराया।