अलीगढ : हजारों शिक्षामित्रों ने दी गिरफ़्तारी, फिर नारे लगाये ‘Yogi नहीं कसाई है-राम रहीम का भाई है’

अलीगढ | यूपी में शिक्षा मित्रों का आन्दोलन बड़ता ही जा रहा है | अलीगढ में भी शनिवार को हजारों शिक्षामित्रों ने एलानिया जेल भरो आन्दोलन के तहत गिरफ्तारी दी | संयुक्त शिक्षा मित्र संघर्ष समिति के बैनर तले एकजुट हुए शिक्षामित्रों ने योगी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की | जिला पंचायत में इकठ्ठा हुए शिक्षामित्रों के जनसैलाब को देखते हुए पुलिस प्रशासन के हाथ पंक फूल गए | एटा में हुई घटना के बाद से प्रशासन शिक्षा मित्रों को लेकर सतर्कता बरत रहा है | शिक्षा मित्रों ने एक बार फिर शनिवार को ‘योगी नहीं कसाई है-राम रहीम का भाई है’ जैसे नारे लगाये | नारों की वजह से भी आन्दोलन शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है |

जुलूस के माध्यम से जैसे ही शिक्षा ने कलेक्ट्रेट की ओर कूच किया प्रशासन ने गिरफ़्तारी की घोषणा कर दी | आनन फानन में गिरफ़्तारी की औपचारिकता पूरी कर सभी को रिहा कर दिया | शिक्षा मित्रों ने एसीएम रेनू सिंह ज्ञापन देकर वेतन कम से कम तीस हजार करने की मांग उठाई | शिक्षा मित्रों ने योगी सरकार पर वायदा खिलाफी का भी आरोप लगाया | शिक्षक नेता सुनील शर्मा ने कहा कि अभी तो सिर्फ गिरफ्तारी दी है यदि सरकार नहीं जागी तो परिणाम गंभीर होंगे | उन्होंने कहा कि हजारों परिवारों पर संकट है लेकिन सरकार आँखें मूंदे बैठी यह शर्मनाक है |

गिरफ़्तारी देने वालो में मुख्य रूप से ऋषिपाल चौधरी, प्रेम सिंह आर्य, हरेन्द्र सिंह, राजवीर सिंह, सरिता कौशिक, राधा शर्मा, अनिल वर्मा, यशपाल सिंह, सत्यप्रकाश, शर्मा, वीरेश कुमार, सदानंद, हरी सिंह, नरेश जालौन, सतेन्द्र सिंह सहित हजारों शिक्षामित्र मौजूद रहे | इस दौरान पुलिस फोर्स भारी संख्या में तैनात रहा |