#Aligarh : डीएस कालेज संजीव चौधरी हत्याकांड में रौबी और योगेश की संपत्ति होगी कुर्क

अलीगढ |डीएस कालेज के चर्चित संजीव चौधरी हत्याकांड में आरोपियों के खिलाफ कोर्ट ने बड़ी कार्यवाही की है | संजीव चौधरी हत्याकांड में फरार चल रहे संजीव उर्फ रौबी और योगेश की चल-अचल संपत्ति कुर्क करने के आदेश जारी हो गए हैं। कोर्ट ने जिला मजिस्ट्रेट से लेकर डीआईजी, एसएसपी को भी आदेश का पालन कराने को कहा है। कुर्की नोटिस जारी होने के बाद भी दोनों आरोपी कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। रौबी चर्चित पूर्व विधायक मलखान सिंह हत्याकांड में भी आरोपी है। अब इस मामले में 19 मार्च को सुनवाई होगी। अधिवक्ता महान प्रताप सिंह के मुताबिक टप्पल निवासी संजीव चौधरी पुत्र बलवीर सिंह एडवोकेट डीएस कालेज का छात्र था। वर्ष 2004 में उसकी हत्या कर दी गई थी।

इस मामले में वर्तमान में सपा युवजन सभा के जिलाध्यक्ष राघवेंद्र सिंह कालू, संजीव उर्फ रौबी निवासी गांव कलाई हरदुआगंज व योगेश चौधरी निवासी ग्वालरा हरदुआगंज के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। योगेश वर्ष 2006 में मेरठ में हुए चर्चित कविता चौधरी हत्याकांड में आरोपी है तो रौबी भी पूर्व विधायक मलखान सिंह हत्याकांड का आरोपी है। पुलिस के बढ़ते दबाव के चलते कालू ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था, जबकि रौबी व योगेंद्र फरार चल रहे हैं। जबकि इस मामले में हाईकोर्ट भी जल्द सुनवाई कर मुकदमे का निस्तारण का आदेश जारी कर चुका है। 28 फरवरी को कोर्ट ने दोनों के खिलाफ धारा 82 के तहत कुर्की नोटिस जारी करते हुए सुनवाई के लिए छह मार्च की तारीख नियत की। इसके बाद भी यह दोनों कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। इस पर थाना पुलिस ने कोर्ट में अपनी रिपोर्ट लगाई गई कि फरार आरोपी अपनी संपत्तियां हटाने में लगे हैं।

इस पर कोर्ट ने दोनों के खिलाफ धारा 83 के तहत चल-अचल संपत्तियां कुर्क कर आख्या पेश करने के आदेश थाना गांधीपार्क पुलिस को दिए हैं। वहीं इसके लिए जिला मजिस्ट्रेट को अधिकृत किया है। साथ ही डीआईजी व एसएसपी को आदेश का पालन कराने को कहा है।