अलीगढ मेयर चुनाव : कसौटी पर जाटों की एकता, पहली बार RLD से प्रतीक चौधरी मैदान में

अलीगढ | नगर निगम के मेयर का चुनाव इस बार जिले में जाट समुदाय के सियासी भविष्य को भी तय करेगा | गत एक दशक से जाटो का वर्चस्व अलीगढ की राजनीति से कम हुआ है लेकिन एक लम्बे समय बाद अब अलीगढ में मेयर चुनाव में रालोद से प्रतीक चौधरी की उम्मीदवारी ने जाटो की एकता को कसौटी पर ला दिया है | हालांकि शहर में जाट समुदाय का बहुत बड़ा वोट बैंक नहीं है लेकिन लगभग सोलह हजार वोट जाट बिरादरी के हैं | एक दिसम्बर को जब वोट खुलेंगे तो जाट समुदाय के कितने वोट रालोद के प्रतीक चौधरी के खाते में गए यह जरुर चर्चा का विषय रहेगा |

बताते चलें कि जाट बाहुल्य खैर और इगलास के सुरक्षित होने जाने से अब मेयर चुनाव में जाट प्रत्याशी की उम्मीदवारी ने लड़ाई को रोचक कर दिया है | प्रतीक चौधरी पहले जाट नेता हैं जिन्होंने मेयर चुनाव के लिए ताल ठोकी है | अखिल भारतीय जाट महासभा ने प्रतीक चौधरी को समर्थन देने का एलान किया है | भाजपा को भी जाटो के प्रतीक चौधरी के खाते में जाने से हार की वजह बनने का डर सता रहा है |

अब देखना यह है कि जाट समुदाय 26 नवम्बर को रालोद के प्रतीक चौधरी को वोट देकर एकजुटता दिखाता है या नही ?