अलीगढ : मस्जिद गुम्बद निर्माण को लेकर सांप्रदायिक बवाल, फायरिंग से दहला अलीगढ, हालात काबू में

अलीगढ | यूपी के सबसे अति संवेदनशील शहर माने जाने वाले अलीगढ में शुक्रवार देर शाम मस्जिद के गुम्बद निर्माण को लेकर हुए विवाद ने सांप्रदायिक बवाल का रूप ले लिया | मस्जिद तोड़ने की अफवाह ने शहर में जमकर फायरिंग कराई हालांकि किसी के हताहत होने की खबर नहीं है | डीएम, एसएसपी ने हालात को काबू में कर लिया है | समझोते के बाद सोशल मीडिया पर फैली अफवाह से एकत्रित हुई भीड़ ने नारेबाजी करते हुए फायरिंग की|  जवाब में पुलिस ने भी आंसू गैस के गोले छोड़े और हवाई फायरिंग की। कुछ ही देर में ऊपरकोट से सटा पुराने शहर का पूरा मिश्रित इलाका सांप्रदायिक तनाव की जद में आ गया। दोनों ओर से जमकर धार्मिक नारेबाजी होने लगी। 
हालांकि पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए दोनों पक्षों की भीड़ को खदेड़ दिया। बाद में पहुंचे स्थानीय प्रतिनिधियों ने पुलिस को चेतावनी दी कि अगर सुबह छह बजे तक गुंबद न हटी, तो परिणाम गंभीर होंगे। पूरी रात पुलिस-प्रशासनिक अमला मौके पर जमा रहा। जबकि स्थानीय नेताओं ने हलवाईखाने में डेरा जमा रखा था।
फूल चौराहा सराफा चौक सांप्रदायिक दृष्टि से शहर का अतिसंवेदनशील प्वाइंट है। यहां अर्से पुराना धर्मस्थल है, जिसकी तीसरी मंजिल पर काफी समय से निर्माण कार्य चल रहा है। जिसको लेकर भवनस्वामी ने आपत्ति जताई | गुम्बद को लेकर आपत्ति से पुलिस प्रशासन भी सतर्क हुआ और समझौते के प्रयास होने लगे | भाजपा अलीगढ के विधायक संजीव राजा ने पहुंचकर हालात को और बेकाबू कर दिया | विधायक ने खुले तौर पर अधिकारिओ से कह दिया कि गुम्बद सुबह तक न हटी तो हम खुद हटा देंगे |  शाम करीब पांच बजे से विरोध शुरू कर दिया और निर्माण न होने देने की चेतावनी दी। कुछ ही देर में गृहस्वामी के पक्ष से भारी संख्या में भीड़ जमा हो गई। भीड़ जुटने पर सीओ प्रथम, सीओ तृतीय, सिटी मजिस्ट्रेट, कोतवाली, सासनी गेट, बन्नादेवी थाने की फोर्स समेत आरआरएफ आदि पहुंच गई। मेयर शकुंतला भारती भी आ गईं।
यहां दोनों पक्षों में इस बात पर सहमति बन गई कि निर्माण रुकवा दिया जाए। साथ ही फिलहाल गुंबद हटवा दी जाए और आगे का निर्माण रविवार को दोनों पक्षों की वार्ता के बाद हो। इसके बाद सभी लोग वहां से चले गए, जबकि एहतियातन पुलिस बल तैनात कर दिया गया।
इसी बीच गुंबद का एक हिस्सा उतारा जाने लगा। तभी किसी ने ऊपरकोट के लोगों को सोशल साइट पर फोटो भेजकर यह अफवाह उड़ा दी कि वहां धर्मस्थल ही गिराया जा रहा है। इस पर ऊपरकोट पर लोग आक्रोशित हो गए और भारी संख्या में भीड़ एकत्रित होकर ऊपरकोट से फूल चौराहा पर आने वाली गली से चौराहे पर आ गई। इस भीड़ ने वहां पहले धार्मिक नारेबाजी शुरू कर दी। इस पर दूसरी ओर से भी नारेबाजी की गई। यह देख पुलिस ने दोनों पक्षों की भीड़ को दौड़ा दिया। मगर बाद में ऊपरकोट से आई भीड़ ने पुलिस पर फायरिंग और पथराव शुरू कर दिया।,इससे माहौल बिगड़ गया। बचाव में पुलिस को भी हवाई फायरिंग करते हुए आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। पहले ऊपरकोट की ओर भीड़ को खदेड़ा। बाद में दूसरी तरफ की भीड़ को भी दौड़ा दिया।

जिलाधिकारी बोले – अफवाहों पर न दें ध्यान
”एक धर्मस्थल पर गुंबद के निर्माण को लेकर बाजार में लोगों को आपत्ति थी, जिसे दोनों पक्षों की सहमति से उतरवाया जा रहा था। रहा सवाल गुंबद का, तो इसे हटवाया जाएगा। लोग अफवाहों पर ध्यान न दें ”

– ऋषिकेश भाष्कर याशोद जिलाधिकारी