PFI को लेकर UP में अलर्ट, अलीगढ़ में भी हो रही सदस्यों की तलाश

अलीगढ़ । यूपी में CAA के विरोध में हुई हिंसा के लिए जिम्मेदार माने जा रहे PFI संगठन के सदस्यों की देशभर में तलाश तेज हो गई है । अलीगढ़ में भी इसके मेम्बर की तलाश हो रही है । सीएए और एनआरसी के विरोध में पिछले दिनों हुए उपद्रव में कट्टर इस्लामिक संगठन पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया का नाम सामने आने के बाद जिले में भी हलचल मच गई है। यहां भी फ्रंट के सदस्यों का डाटा खंगाला जा रहा है। प्रदेश में जारी अलर्ट के बीच शासन ने जिला प्रशासन-पुलिस से इसकी रिपोर्ट मांगी है। इसके बाद रिपोर्ट जुटाने की जिम्मेदारी एलआईयू को सौंपी गई है। वहीं, सभी थानाध्यक्षों को भी इस काम में लगाया जा रहा है। प्रशासन के निर्देश पर इस खुफिया रिपोर्ट को तैयार किया जा रहा है।

जिले में सीएए और एनआरसी को लेकर एएमयू से शुरू हुए विरोध के बाद शहर की सड़कों पर हजारों लोगों को हुजूम उमड़ा था। भीड़ ने पुलिस पर भी पथराव किया था। पूरा उपद्रव जिस सुनियोजित तरीके से हुआ और उसके बाद बलवाइयों के बाहरी होने जैसी सूचना मिली, तभी से पुलिस-प्रशासन इस मामले में सक्रिय हो गया था कि आखिर इतने सुनियोजित तरीके से उपद्रव और बाहरी लोगों के आने से लेकर उनके जाने तक के इंतजाम कैसे हुए और ये सब किसने किया। प्रदेश स्तर पर जब इसकी समीक्षा हुई तो पीएफआई का नाम सामने आया। इसके बाद शासन सख्त हो गया और प्रदेश में अलर्ट जारी कर दिया।

अलर्ट के ही क्रम में जिला पुलिस और प्रशासन से फ्रंट की अलीगढ़ में हुए बवाल में भूमिका की जांच करने, फ्रंट के यहां पर तार खंगालने, कौन-कौन लोग इसके पदाधिकारियों के संपर्क में रहे, बाहरी लोग कहां से आए, कहां गए… इन सब बिंदुओं पर जांच की जा रही है। पुलिस-प्रशासनिक सूत्रों के मुताबिक, पीएफआई को लेकर खुफिया तौर पर रिपोर्ट जुटाई जा रही है। इस विषय में अधिकारिक तौर पर कोई अधिकारी कुछ बताने को तैयार नहीं है।