सपा सुप्रीमो अखिलेश का BJP पर हमला, बोले-‘भाजपा के लिए विकास सिर्फ एक जुमला’

लखनऊ | समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा के कहने, सोचने और करने में बड़ा अंतर है। उसकी नीतियों और कार्यों से जनता संतुष्ट नहीं है। भाजपा और विश्व हिन्दू परिषद की कोशिश नफरत फैलाने की रहती हैं। उत्तर प्रदेश में अनुपूरक बजट में दवा, स्वास्थ्य की कोई व्यवस्था नहीं है। स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं। कानून व्यवस्था बदतर है। किसान, नौजवानों का उत्पीड़न हो रहा है। गुजरात चुनावों के बाद एक बार फिर विकास की राजनीति को भाजपा भ्रमित करने के अभियान में जुट गई है। अखिलेश यादव ने मीडिया से वार्ता में आज कहा कि अस्पतालों में प्राईवेट प्रैक्टिस पर रोक नहीं लगी है। गोरखपुर में हजारों बच्चों की जाने गईं। वहां एम्स बना क्या? समाजवादी सरकार ने गंभीर बीमारियों, दिल, कैंसर किडनी और लीवर के मुफ्त इलाज की व्यवस्था की थी अब मुफ्त डायलेसिस भी नहीं हो रही है। दवा मुफ्त नहीं मिल रही है।

सपा सुप्रीमो ने कहा कि आज जरूरत विकास की राजनीति की है। भारतीय समाज सद्भाव के लिए जाना जाता है। समाजवादी पार्टी लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता और समाजवाद के लिए प्रतिबद्ध है। समाजवादी सरकार ने बिना किसी भेदभाव के विकास की योजनाएं लागू की थीं। भाजपा का आचरण विकास विरोधी है तभी तो गुजरात में पूरी ताकत झोंकने के बाद भी वह दहाई अंक तक सिमट गई। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा चुनाव को प्रभावित करने के लिए सत्ता एवं सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग करती है। भाजपा की राजनीति जातिवाद और सांप्रदायिकता पर आधारित है। विकास उसके लिए सिर्फ एक जुमला है। वस्तुतः विकास से भाजपा को परहेज है। सुधार के नाम पर उसने जीएसटी और नोटबंदी से जनता को परेशान करने का काम किया है। जनता सब देख रही है। बस 2019 का इंतजार है।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि किसानों के प्रति भाजपा सरकार का सौतेला व्यवहार है। आलू उत्तर प्रदेश में सड़ रहा है। किसानों को धान की कीमत नहीं मिली है। फसल की लागत में डेढ़ गुना बढ़ाकर देने का वादा भी सिर्फ वादा ही रहा। उन्होंने कहा गड्ढा मुक्त सड़क बनाने का भी प्रचार जोरशोर से किया गया था। गड्ढामुक्ति के नाम पर भी घोटाला हुआ। बिजली संकट बढ़ता जा रहा है। भाजपा सरकार में एक यूनिट अतिरिक्त बिजली का उत्पादन नहीं हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून व्यवस्था के मामले में प्रदेश सरकार पूर्णतया विफल रही है। राजधानी में हत्याएं हो रही हैं। राजधानी में मुख्यमंत्री निवास और राजभवन के पास के इलाके में हत्या हुई, गोली चली। डुमरियागंज के पूर्व विधायक श्री जिप्पी तिवारी का इकलौता बेटा मारा गया। पुलिस का अतापता नहीं चला। समाजवादी सरकार ने यूपी डायल 100 नं0 की व्यवस्था की थी। महिलाओं की सुरक्षा के लिए 1090 वूमेन पावर की स्थापना की थी। इन व्यवस्थाओं को भाजपा सरकार ने बर्बाद कर दिया है। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार अपराधियों को नियंत्रण में रखने में असफल है। पुलिस का मनोबल गिरा हुआ है। सत्ताधारी दल के लोग पुलिस पर हमला कर रहे है। अपनी असफलता छिपाने और विपक्ष की आवाज को दबाने के लिए भाजपा सरकार यूपीकोका विधेयक ला रही है। इससे निर्दोष जनता और विरोधियों का ही उत्पीड़न किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अपराध नियंत्रण के लिए पहले से ही कई प्रभावी कानून हैं। यूपीकोका की ऐसे में कोई आवश्यकता नहीं थी।