अब BSNL देगी सैटेलाईट फोन सेवा, नहीं जायेंगे नेटवर्क

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने इन्मारसैट के जरिये सैटेलाइट फोन सेवा पेश की है। शुरुआत में इसे सरकारी एजेंसियों को उपलब्‍ध कराया जाएगा और बाद में चरणबद्ध तरीके से इसे नागरिकों को भी उपलब्ध कराया जाएगा। यह सेवा उन इलाकों को भी जोड़ सकती है जहां कोई नेटवर्क नहीं है। इन्मारसैट अंतराष्ट्रीय नौवहन उपग्रहण दूरसंचार संगठन है जो उपग्रहमंड का परिचालान करता है। इस मंडल में 14 उपग्रह काम करते हैं।  इस सेवा को शुरू किए जाने के मौके पर दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा, ‘पहले चरण में आपदा प्रबंध, राज्य पुलिस, सीमा सुरक्षा बल कामकाज देखने वाले विभागों और अन्य सरकारी एजेंसियों को यह फोन दिया जाएगा। बाद में विमान यात्रा करने वाले और जहाजों से सफर करने वालों को यह सेवा उपलब्ध होगी।

अभी उपग्रह दूरसंचार सेवाएं टाटा कम्युनिकेशंस लि. संभालती है जिसने सरकारी क्षेत्र की विदेश संचार निगम लि (बीएसएनएल) के अधिग्रहण के साथ इसका लाइसेंस प्राप्त किया था।  बीएसएनएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव ने कहा, ‘हम वॉयस और एसएमएस के साथ आज से सैटेलाइट फोन सेवा शुरू कर रहे हैं।’ देश में फिलहाल सैटेलाइट फोन सेवा टाटा कम्युनिकेशंस उपलब्ध कराती है। श्रीवास्तव ने बताया कि टाटा कम्युनिकेशंस की सेवा 30 जून, 2017 को समाप्त हो जाएगी। फिलहाल देश में 1,532 अधिकृत सैटेलाइट फोन कनेक्शन हैं, जो देश में परिचालन कर सकते हैं। इनमें से ज्यादातर का इस्तेमाल सुरक्षा बलों द्वारा किया जा रहा है। टाटा कम्युनिकेशंस ने समुद्र से जुड़े समुदायों को जहाजों पर ऐसे फोन के इस्तेमाल के 4,143 परमिट दिए हैं।