अलीगढ़ में अधिवक्ता ने बिजली विभाग को भेजा 1 करोड़ का कानूनी नोटिस, ये है बड़ी वजह-

अलीगढ़ । दीवानी परिसर में विद्युत विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आ रही है । अधिवक्ताओं के स्टैंड के बाहर बिजली के तार खुले हैं और काफी नीचे हैं जिससे कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है । वहीं, इसको लेकर एक अधिवक्ता ने बिजली विभाग को 1 करोड़ रुपये मुआवजे का कानूनी नोटिस दिया है। अधिवक्ता ने नोटिस में स्पष्ट लिखा है कि कोई हादसा होता है तो बिजली विभाग को मुआवजा देना होगा । नोटिस की चर्चा शहर में आम है ।

देखें अधिवक्ता पंकज ने क्या लिखा नोटिस में-
कानूनी नोटिस आज दिनांक को बजरिया द्वारा दफ्तर श्री पंकज कुमार सक्सेना एडवोकेट अलीगढ़ द्वारा चीफ इंजीनियर विद्युत वितरण खंड लाल दिग्गी अलीगढ़ को इस व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से मैं कानूनी नोटिस देता हूं की दीवानी न्यायालय परिसर में विद्युत सप्लाई के लिए ट्रांसफार्मर स्टेशन स्थापित किया है जिस के नंगे तार साइकिल स्टैंड अधिवक्ताओं की मोटरसाइकिल खड़ी करने के स्थान पर 44000 वोल्टेज की लाइन के नंगे तार स्टैंड में 4 फुट की जमीन की ऊंचाई से खुले पड़े हैं किसी भी अधिवक्ता की मृत्यु होने की दशा में हानि होने की दशा में विद्युत तारों की वजह से होने वाली हानि अधिवक्ता समाज को या अधिवक्ता को या मुंशी को होने पर 10000000 रुपए मुआवजा धनराशि 30 दिन के अंदर अदा करनी होगी आज नोटिस अवधि दिए जाने से दि अलीगढ़ बार एसोसिएशन अलीगढ़ के बजरिया अलीगढ़ दीवानी न्यायालय नजारत सूचित हुए मुआवजा धनराशि की नैतिक जिम्मेदारी विद्युत विभाग अलीगढ़ नजारत दीवानी न्यायालय अलीगढ़ की भी होगी न्यायालय परिसर की व्यवस्था रखने व देखने की जिम्मेदार संस्था उत्तरदाई रहेगी नोटिस समाज अधिवक्ता हित में जारी किया जाता है नोटिस कटा फटा नहीं है साक्षी हेतू प्रस्तुत किया जा सकेगा नंगे खुले तारों की फोटो इस नोटिस के साथ प्रेषित है कृपया सूचित हुए या 15 दिनों के अंदर अपने खुले हुए विद्युत तारों को सुरक्षात्मक दृष्टि से जमीन से 20 फीट ऊपर सुरक्षित अलग स्थान पर सुरक्षा सुनिश्चित करने की कृपा करें धन्यवाद