जहरीली शराब कांड के 64 मृतकों को मिला पांच-पांच लाख का मुआवजा

अलीगढ | शराब कांड में जान गंवाने वाले 64 मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रूपए की दी गई। शासन द्वारा 3.20 करोड़ रूपए कृषक दुर्घटना बीमा योजना के तहत जारी किए जाने के बाद बैंक खातों में धनराशि ट्रांसफर कर दी गई। कुल 115 मृतकों को अलग-अलग योजनाओं के तहत लाभ दिया जा रहा है। इसमें कई ऐसे भी लोग शामिल किए गए हैं, जिनका पोस्टमार्टम ही नहीं हुआ।

जिले में अब तक 109 लोगों की मौत जहरीली शराब के सेवन से हो चुकी है। हालांकि प्रशासन का आंकड़ा कुछ और है। जिन लोगों की मौत शराब कांड में हुई थीं। उनमें से 64 लोगों को जिला प्रशासन द्वारा कृषक दुर्घटना योजना के तहत पांच-पांच लाख रुपये की धनराशि देने के लिए शासन ने 3.20 करोड़ रुपये की धनराशि भेजी गई। इनमें खैर तहसील के 33, कोल के 16 और गभाना के 15 मृतकों को शामिल किया गया है। सोमवार को मृतकों के परिजनों के बैंक खातों में पांच-पांच लाख रूपए की धनराशि ट्रांसफर कर दी गई।

वहीं, कुल मृतकों में पांच ऐसे भी सामने आए हैं, जिनके कोई वारिस नहीं है। इसके चलते उनका पैसा नहीं आया है। वहीं, सात मृतक ऐसे हैं, जो अन्य जिलों के थे। उनके संबंध में उनके संबंधित जिलों को लिखा गया है। उनके आश्रितों को देने के लिए अलीगढ़ प्रशासन को राशि नहीं मिली है। वहीं, शहरी क्षेत्र के होने के चलते 23 मृतकों के आश्रितों को पारिवारिक लाभ योजना का लाभ दिया गया है। इसके तहत 30-30 हजार रूपए का लाभ दिया जा रहा है। इसमें 15 कोल और 8 आठ गभाना तहसील के मृतक शामिल हैं। वहीं ईंट भट्ठों के 16 श्रमिकों की मौत हुई थी, उनके आश्रितों को जिला प्रशासन की पहल पर 2-2 लाख रुपये भट्ठा मालिकों की ओर से बतौर सहायता राशि के तौर पर दी जा चुकी है।

एडीएम प्रशासन ने कहा है कि शराब कांड के 64 मृतकों के परिजनों को कृषक दुर्घटना बीमा योजना के तहत पांच-पांच लाख रूपए की धनरशि दी गई है। इसके अलावा अन्य को पारिवारिक योजना का लाभ आदि से मुआवजा दिलाया जा रहा है।