एरिक्सन अधिकारी ने कहा, ‘भारत में 5जी की जबरदस्त मांग’

एरिक्सन के एक शीर्ष कार्यकारी अधिकारी ने कहा कि भारत में 5जी की जबरदस्त मांग है, क्योंकि यह ज्यादा दक्ष है और देश के दूरसंचार आपरेटरों को आने वाले तीन-चार वर्षो में जबरदस्त डेटा वृद्धि का प्रबंधन करने का मौका देगा। एरिक्सन इंडिया के प्रमुख नितिन बंसल ने आईएमसी 2019 के संवाद के दौरान आईएएनएस से कहा, “5जी की मांग है और इसकी जरूरत है। इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2019 को ही देखिए, आप देखेंगे कि सभी 5जी को छूना और महसूस करना चाहते हैं।”

5जी वाणिज्यिक नेटवर्क के शुरू होने से मोबाइल ब्राडबैंड में विस्तार होगा, जो स्मार्टफोन यूजर्स के लिए बेहतर अनुभव मुहैया कराएगा और घरों में फाइबर पहुंचाए बिना फाइबर की स्पीड मुहैया करा वायरलेस एसेस को सही करेगा।

बंसल ने कहा, “और फिर यह इंडस्ट्री 4.0 के लिए रास्ते खोलेगा और नेटवर्क में लचीलापन लाएगा। इससे नेटवर्क में देरी(डिले इन द नेटवर्क) में गिरावट होगी, जिसमें शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं समेत कई सेक्टरों को ट्रांसफोर्म करने की क्षमता है।” उन्होंने कहा, “लेकिन 5जी के फायदों का मजा उठाने के लिए, पूरे तंत्र को लगना पड़ेगा। स्पेक्ट्रम की नीलामी करनी पड़ेगी और फाइबर को लगाना होगा और इसके साथ ही हमें डिवाइसों की जरूरत पड़ेगी।”

बंसल ने कहा, “मैं इसमें दूरसंचार ऑपरेटरों की काफी रुचि देखता हूं। हालांकि हम कैसे स्पेक्ट्रम को सस्ता बनाएंगे, जैसे मुद्दे भी हमारे सामने हैं।” नवीनतम एरिक्सन मोबिलिटी रिपोर्ट के अनुसार, भारत में 2018 के अंत तक प्रति स्मार्टफोन मासिक डेटा खपत बढ़कर 9.8 गीगाबाइट हो गया है, जोकि विश्व में सबसे ज्यादा है। 2024 तक, देश में प्रति स्मार्टफोन मासिक डेटा प्रयोग 11 प्रतिशत तक बढ़कर 18 जीबी तक पहुंच जाएगा।