बिहार: 14 वर्षीय दलित लड़के की गला दबाकर हत्या।

बिहार की नई एनडीए सरकार में अपराधियों का तांडव सर चढ़कर बोल रहा है। हत्या जैसी वारदात तो अब आम बात सी हो गई है। भोजपुर जिलें के जगदीशपुर थाना क्षेत्र के दीघा टोला गांव में आज भी कुछ इसी तरह का मामला देखने को मिला है। भोजपुर जिले धनगाई थाना क्षेत्र के दीघा टोला गांव में शुक्रवार की सुबह एक 14 वर्षीय महादलित लड़के की गला दबाकर हत्या किये जाने की सूचना मिलते ही परिजनों व ग्रामीणों में हड़कंप मच गया।

जानकारी के अनुसार दीघा गांव निवासी गणेश गोंड के द्वितीय पुत्र रोहित गोंड की लाश गांव के बाहर खेत की तरफ पड़े होने की सूचना परिजनों को सुबह लगभग छः बजे मिलते ही घर में कोहराम मच गया। घटनास्थल पर पहुँचने के बाद जब मृतक के परिजनों ने निर्जीव पड़े रोहित की लाश को देखा तो उनके होश उड़ गए। किस तरह एक मासूम नाबालिग लड़के को बेरहमी से उसका गला दबाकर हत्या कर दिया गया है। धनगाई थाना को सूचित करने के बाद परिजनों ने ग्रामीणों के साथ शव को बिहियां पीरो पथ पर दीघा टोला मोड़ के पास रखकर जाम कर दिया। इस दौरान सड़क पर दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गयी। वहीं परिजनों ने गांव के ही कुछ लोगों को इस हत्या का आरोपी लगाया है। घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि जगदीशपुर के दीघा टोला गांव निवासी गणेश गोड़ का लड़का व गांव के ही नामजद बच्चों के बिच खेलने को लेकर विवाद उत्पन्न हुआ था। जिसके बाद विवाद इतना तूल पकड़ा की गणेश गोड़ के 14 वर्षीय पुत्र रोहित गोड़ की गांव के ही बच्चों द्वारा गला दबाकर हत्या कर दी गई। वही मृत बालक के परिजनों का आरोप है कि बालक की हत्या में सिर्फ बच्चे ही नहीं बल्कि उनके परिजन भी सामिल है। जाम की खबर मिलते ही घटनास्थल पर पुलिस निरीक्षक सह जगदीशपुर थानाध्यक्ष बैजनाथ चौधरी व धनगाई थानाध्यक्ष मणीन्द्र कुमार दल बल के साथ पहुँच कर लोगों को उचित कार्रवाई का आश्वासन देकर जाम हटवाया। इस दौरान घण्टो बिहिया पीरो पथ जाम रहा। थानाध्यक्ष ने बताया की शव को अन्यतिरिक्षण के लिए सदर अस्पताल आरा भेज दिया गया है। उन्होंने कहाँ की इस मामले में जो भी आरोपी होंगे उन्हें बहुत जल्द ही करवाई की जायेगी।