वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़ में 12 की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख, मुआवजे का ऐलान

जम्मू। जम्मू कश्मीर में प्रसिद्ध माता वैष्णो देवी मंदिर में नए साल पर मची भगदड़ में में कम से कम 12 श्रद्धालुओं की मौत हो गई और 13 अन्य घायल बताए जा रहे है। भगदड़ मंदिर के गर्भगृह के बाहर गेट नंबर तीन के पास हुई। इस घटना के बाद हर तरफ शोक की लहर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि माता वैष्णो देवी भवन में मची भगदड़ में लोगों की मौत से अत्यंत दुखी हूं। शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना।

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा,केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय से बात की और स्थिति का जायज़ा लिया। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि माता वैष्णो देवी मंदिर में हुई दुखद दुर्घटना से हृदय अत्यंत व्यथित है। मैंने J&K के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा जी से बात की है। प्रशासन घायलों को उपचार पहुंचाने के लिए निरंतर कार्यरत है। हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं।

जम्मू-कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा ने घटना के जांच के लिए एक कमेटी का गठन किया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कटरा में माता वैष्णो देवी भवन में भगदड़ में मारे गए लोगों के परिजनों को 10 लाख रुपये और घायलों को 2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि दिए जाएंगे। केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि मैं माता वैष्णो देवी तीर्थ पर त्रासदी से उत्पन्न स्थिति का जायज़ा लेने के लिए तुरंत कटरा जा रहा हूं। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि कटरा के माता वैष्णो देवी भवन में मची भगदड़ में 12 लोग की मौत और 13 लोग घायल हुए हैं। घटना लगभग सुबह 2:45 बजे हुई और प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार एक तर्क छिड़ा जिसके परिणामस्वरूप लोगों ने एक-दूसरे को धक्का दिया और फिर भगदड़ मच गई।

अधिकारियों ने बताया कि नए साल की शुरुआत पर मंदिर में दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालुओं की भारी भीड़ के कारण भगदड़ मच गई। वरिष्ठ अधिकारी और श्राइन बोर्ड के प्रतिनिधि मौके पर मौजूद हैं। अधिकारियों ने कहा कि भगदड़ में 12 लोगों की मौत हो गई और शवों को पहचान और अन्य कानूनी औपचारिकताओं के लिए कटरा आधार शिविर के एक अस्पताल में भेजा गया है। अधिकारियों ने बताया कि 20 और लोग घायल हो गए और उनमें से अधिकांश का माता वैष्णो देवी नारायण सुपरस्पेशेलिटी अस्पताल में इलाज चल रहा है। अधिकारियों ने कहा कि मंदिर खुला है और अंतिम रिपोर्ट आने तक श्रद्धालु पूजा-अर्चना कर रहे थे।