नई दिल्ली हुनर हाट : बेकार चीजों को नया रूप देकर लोगों तक पहुंचा रहीं विम्मी कालरा, पढ़िए इस महिला से जुड़ा ये रोचक किस्सा-

नई दिल्ली | कोरोना लॉकडाउन के बाद देश की राजधानी धीरे धीरे पटरी पर लौट रही है | मोदी सरकार के अल्पसंख्यक मंत्रालय ने हुनर हाट लगाया हुआ है जिसमे अल्पसंख्यक समाज से जुड़े लोग अपनी अपनी कला की प्रदर्शनी लगाए हुए हैं जिसे लोगों द्वारा काफी सराहना मिल रही है | नेताजी सुभाष प्लेस में लगे इस हुनर हाट में ऐसी ही एक महिला हैं गुरजीत कौर उर्फ़ विम्मी कालरा जिन्होंने अपने शौक के जरिये बेकार और पुरानी चीजों को नई शक्ल देने की ठानी हुई है | विम्मी कालरा बेकार चीजों को नई शक्ल देकर लोगों तक पहुंचाती हैं | उनकी इस कला की लोग काफी सराहना कर रहे हैं |

साउथ दिल्ली की रहने वाली विम्मी कालरा पेशे से शिक्षक थीं लेकिन उन्हें कुछ नया करने का शौक हमेशा से था | विम्मी घर में बेकार पड़ी रहे वाली चीजों को सँवारने लगी और उन्हें शेप देकर सूंदर बनाने लगी, यहीं से उनका यह शौक अब बड़ा रूप ले चूका है | विम्मी की कलाकृतियों को पहले घरवालों ने सराहा अब राजधानी के लोग उनकी कला के कायल हैं | शौक को लोगों तक पहुंचाने के लिए विम्मी अब प्रदर्शनियों में अपना स्टाल लगाती हैं |विम्मी के पति बिजनेसमैन हैं लेकिन विम्मी खुद के शौक को पहचान दिलाने के लिए संघर्षरत हैं |विम्मी को पहले तो घरवालों ने उनके इस शौक के लिए टोकाटाकी की लेकिन बाद में वह सब मान गए |

विम्मी कहती हैं कि बेकार और पुरानी घरेलु चीजों को वो डेकोपाश, क्ले वर्क और मिक्स मीडिया के माध्यम से घर में सजाने लायक और शोभा देने लायक बनती हैं | वह कहती हैं कि इस उनका शौक भी पूरा होता है और जितनी लागत में वह इन कलाकृतियों को तैयार करती हैं उतनी ही दाम में उसे बेच देती हैं | वह कहती हैं दिल्ली में कला को सम्मान देने वाले बहुत लोग हैं | विम्मी कहती हैं कि विम्मी क्रिएशन्स के नाम से अब उनको लोग जानने लगे हैं | विम्मी महिलाओं से आव्हान करते हुए कहती हैं कि हमे अपनी प्रतिभा को उभारना चाहिए, उसको समय देना चाहिए |