जेवर हवाई अड्डे की सुरक्षा करेगी स्विट्जरलैंड की कंपनी, योगी सरकार ने दी अनुमति

नोएडा। स्विस फर्म ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जेवर हवाई अड्डा विकसित करने के उद्देश्य से सुरक्षा अनुमति दे दी गयी है। राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। यह फर्म 29 नवंबर को दिल्ली के बाहरी क्षेत्र में स्थित जेवर में बनने जा रहे इस हवाई अड्डे के लिए सबसे बड़ी बोली लगाने वाली फर्म के रूप में उभरी थी।

इसकी बोलियों ने अडाणी इंटरप्राइजेज, डीआईएएल और एंकोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर इंवेस्टमेंट होल्डिंग की बोलियों को पीछे छोड़ दिया था। उत्तर प्रदेश सरकार के प्रधान सचिव एस पी गोयल ने ट्वीट किया, ‘इस बात को साझा करते हुए खुश हूं कि जेवर में नोएडा इंटरनेशनल ग्रीनफील्ड हवाई अड्डा के विकास के उद्देश्य से स्विस फर्म ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशन एजी को सुरक्षा अनुमति मिल गयी है।’

5000 हेक्टेयर में बनेगा एयरपोर्ट-
इस परियोजना से जुड़े गौतमबुद्ध नगर के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कार्य को शुरू करने की प्रक्रिया के तहत फर्म ने केन्द्रीय ग्रह मंत्रालय को सुरक्षा अनुमति के लिए आवेदन दिया था। अधिकारियों के अनुसार यह हवाई अड्डा 5000 हेक्टेयर में बनाया जाएगा और इसकी अनुमानित लागत करीब 29560 करोड़ रुपये होगी।

यूपीपीसीएल बिजली आपूर्ति करेगा-
एयरपोर्ट के लिए बिजली यूपीपीसीएल बिजली आपूर्ति करेगा। यमुना सिटी के जहांगीरपुर के पास 80 हेक्टेयर में 765 केवीए के बिजली सबस्टेशन बनाया गया है। इस बिजली सब स्टेशन से कॉरिडोर तैयार कर जेवर एयरपोर्ट के लिए बिजली आपूर्ति होगी।