बुलंदशहर हिंसा : शहीद इंस्पेक्टर की पत्नी का ऐलान- ‘इंसाफ न मिला तो गोली मारकर करूंगी आत्महत्या’

बुलंदशहर | बुलंदशहर हिंसा में शामिल लोगों को पुलिस गिरफ्तार करने में जुटी हुई है लेकिन शहीद इंस्पेक्टर की पत्नी के ऐलान से सूबे में हडकंप मच गया है | सुध-बुध खो चुकी पत्नी का कहना था कि उन्हे एसआईटी, पुलिस जांच पर विश्वास नहीं है। मामले की जांच सीबीआई से होनी चाहिए। हत्यारों और पति का साथ छोड़ने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई हो ।

मंगलवार को बुलंदशहर में वर्दी का फर्ज निभाते हुए शहीद हुए सुबोध कुमार राठौर का पार्थिव शरीर पैत्रिक गांव तरिगवां पहुंचा। पति के शव के पास रो रही पत्नी रजनी का कहना था कि पुलिस विभाग के लिए पति ने जान न्यौछावर कर दी उसी विभाग के अधिकारियों ने अनदेखी की। विभाग ने हमें क्या दिया, मेरे परिवार का सब कुछ छीन लिया। उनका कहना था कि पति की सोची-समझी साजिश के तहत हत्या कराई गई है। इंसाफ न मिलने पर वह खुद गोली मारकर आत्महत्या कर लेंगी। वह भी बुलंदशहर की पुलिस लाइन में।

पत्नी रजनी ने बताया कि पति सुबोध कमार राठौर ने घर से बेघर हुई कई गरीब महिलाओं को आसरा दिलाया था। उन्होंने बताया कि पति ने कई गरीब महिलाओं की मदद की थी । पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और कुछ अन्य पुलिसवाले गुस्साई भीड़ को नियंत्रित करने में लगे थे। लेकिन, उनकी भारी संख्या होने के चलते स्थिति बेकाबू हो गई। उसके बाद सुबोध सिंह को गोली मार दी गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सिंह के परिवार को 40 साल रुपये और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपये देने के साथ ही परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की घोषणा की है।