देशभर में विरोध के बाद लाइन पर आई साध्वी प्रज्ञा, बोली- ‘मैं गांधी का बहुत सम्मान करती हूं’

भोपाल : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को ‘देशभक्त’ कहने के बाद ‘पार्टी की लाइन मेरी लाइन है’ कहने वाली प्रज्ञा ठाकुर आखिरकार लाइन पर आ गईं हैं. नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने के बाद अपने बयान के लिए माफी मांग ली है.

गुरुवार देर रात उनका वीडियो सामने आया जिसमें उन्होंने कहा, ‘ये मेरा निजी बयान है, मैं रोड शो में थी और जिस तरह से भगवा को आतंकवाद से जोड़कर इन्होंने जो प्रश्न किया मैंने उत्तर चलते-चलते तत्काल दिया है. मेरी भावना किसी को आहत करने की नहीं थी. अगर किसी के मन को ठेस पहुंची है तो मैं उसके लिए छमा मांगती हूं. गांधी जी ने देश के लिए जो किया है उसे भुलाया नहीं जा सकता. मैं उनका बहुत सम्मान करती हूं. उन्होंने फिर दोहराया कि जो पार्टी की लाइन है वही मेरी लाइन है और जिन लोगों का मन आहत हुआ है मैं छमा मांगती हूं बयान के लिए.’

प्रज्ञा सिंह ठाकुर के ‘नाथूराम गोडसे देशभक्त’ वाले बयान के बाद सबसे पहली प्रतिक्रिया भाजपा की ओर से आई और कहा कि ‘पार्टी उनके बयान से सहमत नहीं है, उनको माफी मांगनी चाहिए.’ इसके बाद BJP मध्य प्रदेश के मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने मीडिया से बात कर अपनी ओर से दावा किया कि उन्होंने माफी मांग ली है. लेकिन इसके बाद खुद प्रज्ञा सिंह ने मीडिया से बात की थी और माफी मांगने का कोई जिक्र नहीं किया था. उन्होंने कहा, ‘अपने संगठन बीजेपी में निष्ठा रखती हूं. उसकी कार्यकर्ता हूं और पार्टी की लाइन मेरी लाइन है.’