AMU में छात्रों का विरोध प्रदर्शन, तबरेज के हत्यारों को फांसी की मांग

अलीगढ | झारखंड में तबरेज अंसारी के हत्यारों को फांसी की सजा देने की मांग को लेकर शनिवार को एएमयू में छात्रों ने विरोध मार्च निकाला। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार आरोपियों को बचाने में लगी है। छात्रों ने झारखंड सरकार को प्रेषित ज्ञापन एसीएम द्वितीय को सौंपा।

पूर्व कैबिनेट सदस्य जानिब हसन ने कहा कि एक धर्म के लोगों पर बेवजह अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं। हिंसक भीड़ एक के बाद एक निर्दोषों की जान ले रही है। सरकार ऐसे लोगों पर कड़ी कार्रवाई नहीं कर रही, जिसके चलते उनके हौसले बुलंद हो रहे हैं। कहा कि झारखंड सरकार को मॉब लिंचिंग के आरोपियों को कड़ी सजा देनी चाहिए। छात्र नेता जैद शेरवानी, आरिफ त्यागी, फरहान जुबैरी ने कहा कि तबरेज अंसारी झारखंड में मॉब लिंचिंग का शिकार हुआ था। आरोपियों पर धारा 302 लगायी गई थी, अब वह हटा दी गई है। यह दिखा दिया गया कि हार्ट अटैक पड़ने से उसकी मौत हुई है। आरोपियों पर धारा 302 लगायी जाए।

आक्रोशित छात्रों ने पुस्तकालय कैंटीन से बाब-ए-सैयद गेट तक विरोध मार्च निकाला। हाथों में सरकार विरोध तख्तियां लेकर विरोध जताया। इस दौरान भाजपा सरकार मुर्दाबाद के नारे लगाये गए। विरोध मार्च में फरहाम अली पुंडीर, मोहम्मद अनस, आसिफ अहमद, जकी उर रहमान आदि शामिल रहे। बाद में झारखंड सरकार को प्रेषित ज्ञापन एसीएम द्वितीय को सौंपा। छात्रों के मार्च के दौरान कैंपस में प्रॉक्टर टीम अलर्ट रही। जगह-जगह सुरक्षाकर्मी तैनात किये गए थे।