गंगा सच्चाई और समानता का प्रतीक, मिलकर बदलनी है UP की राजनीति : प्रियंका गांधी

नई दिल्ली । कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने जनता के नाम खुला खत लिखा है। उन्होंने खत में खुद को कांग्रेस का सिपाही बताया। प्रियंका ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए लिखा है कि सूबे की राजनीति में ठहराव की वजह से युवा, महिलाएं, किसान और मजदूर परेशान हैं। वह अपनी पीड़ा को साझा करना चाहते हैं। प्रियंका का यह खत यूपी दौरे से ठीक पहले सामने आया है। उन्होंने खत में लिखा- उत्तर प्रदेश के लोगों से मेरा नाता बहुत पुराना है। कांग्रेस पार्टी की सिपाही के रूप में मेरी जिम्मेदारी आपके सबके साथ मिलकर सूबे की राजनीति को बदलने की है।

‘यूपी की नीतियों से गायब हैं किसान, मजदूर और युवा”
प्रियंका गांधी ने अपने खत में लिखा है कि यूपी की राजनीति में ठहराव और राजनीतिक गुणा-गणित के शोर में युवाओं, महिलाओं, किसानों व मजदूरों की आवाज प्रदेश की नीतियों से पूरी तरह गायब हैं। उन्होंने लिखा-मैं यूपी की धरती से आत्मिक रुप से जुड़ी रही हूं। मैं मानती हूं कि प्रदेश में किसी भी राजनीतिक परिवर्तन की शुरूआत आपकी बात सुने बगैर आपकी पीड़ा साझा किए बगैर नहीं हो सकती है। इसलिए आपसे संवाद करने के लिए मैं सीधे आपके द्वार पहुंच रही हूं।

प्रियंका गांधी ने आगे अपने खत में लिखा, मैं आपको विश्वास दिलाना चाहती हैं कि आपकी बातों को सुनकर सच्चाई व संकल्प की बुनियाद पर हम राजनीति में परिवर्तन लाएंगे। हमें एक साथ मिलकर आपके मुद्दों को हल करने की तरफ बढ़ेंगे। मैं जलमार्ग, बस, ट्रेन, पदयात्रा सभी साधनों के जरिए आपसे संपर्क करूंगी। गंगा सच्चाई और समानता का प्रतीक है और हमारी गंगा जमुनी संस्कृति का चिन्ह है। वे किसी से भेदभाव नहीं करतीं। गंगाजी उत्तर प्रदेश का सहारा है। मैं गंगाजी का सहारा लेकर भी आपके बीच पहुंचूंगी। बता दें कि प्रियंका गांधी 20 मार्च को वाराणसी में चुनावी रैली कर रही हैं।