नेपाल दर्दनाक विमान दुर्घटना, 50 लोगों की मौत

नई दिल्ली। यूएसबांग्ला एअरलाइंस का एक विमान सोमवार को यहां नेपाल के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे (टीआइए) पर उतरने के बाद रनवे से फिसलकर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस हादसे में 50 से अधिक लोगों की मौत हो गयी। एक शीर्ष नेपाली अधिकारी ने यह जानकारी दी। टीआइए प्रवक्ता प्रेमनाथ ठाकुर ने बताया कि विमान उतरते समय रनवे पर लड़खड़ा गया और इसमें आग लग गई। इसके बाद यह हवाईअड्डे के पास एक फुटबाल मैदान में जाकर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान में 67 यात्री और चालक दल के चार सदस्य सवार थे। विमान में 33 नेपाली नागरिक सवार थे।

नेपाल सेना के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल गोकुल भंडारी ने बताया कि हादसे में 50 लोगों की मौत हो गई। टीआइए के महाप्रबंधक राजकुमार छेत्री ने कहा कि हम राहत व बचाव अभियान चला रहे है। हम विस्तृत जानकारी इकट्ठा कर रहे हैं। छेत्री ने बताया कि विमान का ब्लैक बॉक्स मौके से बरामद कर लिया गया है। काठमांडो के अस्पताल में भर्ती कराए गए 24 से अधिक लोगों की हालत गंभीर बताई गई है। नेपाल पुलिस के प्रवक्ता डीआइजी मेंजो नियुपाने ने बताया कि दुर्घटनाग्रस्त विमान से अब तक 31 शव निकाले गए हैं और नौ अन्य लोगों को विभिन्न अस्पतालों में मृत घोषित किया गया।

विमान ने ढाका से उड़ान भरी थी और यह अपराह्न दो बजकर 20 मिनट (स्थानीय समय) पर हवाई अड्डे पर उतरा। फुटबाल मैदान से काले धुएं की लपटें उठती हुई देखी जा सकती थी। हिमालयन टाइम्स ने हवाई अड्डे के एक अधिकारी के हवाले से बताया कि विमान रनवे पर फिसल गया और उसमें तुरंत आग लग गई। अधिकारियों ने हालांकि बताया कि दुर्घटना का कारण तकनीकी गड़बड़ी भी हो सकता है। ‘काठमांडो पोस्ट’ ने नेपाली नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के महानिदेशक संजीव गौतम के हवाले से बताया कि विमान को रनवे के दक्षिण की ओर उतरने की अनुमति दी गई थी लेकिन यह उत्तर की ओर उतरा। उन्होंने बताया कि रनवे पर उतरने के प्रयास में विमान ने संतुलन खो दिया। गौतम ने कहा कि हम इस असामान्य लैंडिंग के पीछे कारण का पता लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस हादसे का कारण तकनीकी गड़बड़ी भी हो सकती है। अधिकारियों ने बताया कि आग पर काबू पा लिया गया है और राहत व बचाव अभियान जारी है। प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली, गृह मंत्री राम बहादुर थापा और रक्षा मंत्री ईश्वर पोखरेल स्थिति का जायजा लेने के लिए हवाई अड्डा पहुंचे।