अलीगढ में भाजपा पर बरसीं मायावती, बोलीं- ‘महागठबंधन से घबरा गई भाजपा, अखिलेश यादव पर बोलने से पहले अपने गिरेवां में झांके प्रधानमंत्री’

अलीगढ़ | लोकसभा चुनाव में अलीगढ से बसपा प्रत्याशी अजीत बालियान के समर्थन में बसपा सुप्रीमो मायावती और रालोद सुप्रीमो अजित सिंह ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोलै | हजारों लोगों के हुजूम को सम्बोधित करते हुए दोनों नेताओं ने मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने की अपील की | शहर के महेश्वरी इंटर कॉलेज में सपा-बसपा और आरएलडी गठबंधन प्रत्याशी अजित बालियन के समर्थन में बसपा सुप्रीमो मायावती ने रैली को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि भीड़ को देख कर लग रहा है कि नमो-नमो वाले जा रहे हैं और जय भीम वाले आ रहे हैं, यह असली बजरंगबली वाले हैं। भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री अपनी असफलता को छिपाने के लिए गठबंधन के खिलाफ बोल रहे हैं। अखिलेश यादव के बारे में कुछ बोलने से पहले प्रधानमंत्री को अपने गिरेवां में झांक लेना चाहिए, भाजपा और पीएम की बौखलाहट से लग रहा है कि इनके अच्छे दिन जा रहे हैं, और बुर दिन आने वाले हैं।

आजादी के बाद देश की सत्ता कांग्रेस-बीजेपी समेत अन्य दलों के हाथ में रही है, कांग्रेस की नीति हमेशा गलत रही है, वर्तमान में भाजपा सरकार झूठे वादे और इनके क्रिया कलाप के चलते सरकार चली जाएगी। वर्तमान में मोदी ने पिछले आम चुनाम में दलित, मुस्लिम सहित सर्वसमाज से जो वादे किए थे, वह पूरे नहीं किए। 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले ही प्रधानमंत्री तरह-तरह के हथकंडे अपना रहे हैं और वादे कर रहे हैं, पीएम ईमानदार होते तो वह चुनाव से पहले शिलान्यास और झूठी घोषणा नहीं करते। इन्होंने ने पूंजीपति और अमीर लोगों को मालामाल किया है, गरीब मजलूमों के लिए कुछ नहीं किया। किसानों के गन्ने का मूल्य नहीं दिया। आवारा पशुओं ने किसानों को दुखी करके रख दिया है। पूर्व की कांग्रेस सरकार की तरह भाजपा सरकार में भी देश की स्थिति जस की तस है। आरक्षण नीति भी सही से क्रियान्वित नहीं हुई। हर दलित मुस्लिम समेत कई जाति के लोगों की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। इस सरकार में भेदभाव की राजनीति और जुल्म हो रहा है।

मायावती ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी से व्यापारी अभी तक परेशान हैं। भ्रष्टाचार भी बढ़ा है, कांग्रेस के सरकार में बोफोर्स घोटाला हुआ, तो भाजपा की सरकार में रफेल घोटाला इसका उदहारण है। कांग्रेस पार्टी का देश के कई राज्यों में जनाधार घट गया है, वह गरीबों के खाते में 72 हजार रुपये देने का वादा कर रही है, लेकिन इससे कोई फायदा नहीं होना है। गठबंधन के लोगों को इनके झांसे में नहीं आना है। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों से कहना चाहती हूं कि हमारी केंद्र में सरकार बनेगी तो अमुवि का जो स्वरूप पहले से चल आ रहा है उसको बहाल रखा जाएगा। मायावती ने कहा कि भाजपा गठबंधन के बढ़ते जनाधार से घबरा गई है, गठबंधन के खिलाफ अफवाह फैला रही है, लेकिन गठबंधन की आंधी को कोई भी चौकीदार नहीं रोक पाएगा।