मथुरा में छोटे चौधरी को सुनने उमड़ा सैलाब, भाजपा को हराने के लिए अजित से ने दिया भाईचारे का मंत्र

मथुरा । रालोद मुखिया अजित सिंह ने गुरुवार को भाजपा के प्रचार तंत्र से लड़ने के लिए किसानों को भाईचारा का मंत्र दिया। कहा कि किसान जब तक जातियों में बंटा रहेगा, पूंजीपति उसकी इच्छाओं से खेलते रहेंगे। इस झूठ से लड़ना है तो उसे न केवल चौधरी चरण सिंह की सलाह को मानते हुए रालोद को मजबूत करना है, बल्कि मुस्लिम-हिंदू के बीच भाईचारा भी बनाए रखना है।

अजित सिंह कोसीकलां के मंडी समिति मैदान में किसानों के साथ ‘जनसंवाद’ कर रहे थे। उन्होंने न केवल भाजपा की योजनाओं पर तंज कसे, बल्कि 2014 में मोदी के नाम पर अतिउत्साहित युवाओं को आइना दिखाते हुए कहा कि उन्हें न तो रोजगार मिला और न ही काम की गारंटी रही। उल्टे उनके हाथ में जो कुछ था, वो भी छिन गया। नोटबंदी ने उद्योग धंधों पर चोट की तो फसल बीमा योजना के नाम पर किसानों को ठगा गया।

रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मसूद अहमद ने कहा कि चौधरी चरण सिंह की मौत के बाद देश में किसान और मजदूरों के लिए कोई गंभीर काम नहीं हुआ। जिलेवार किसानों से कृषि बीमा का 170 करोड़ वसूला जबकि दिया गया केवल 30 करोड़ रुपये। यह कौन सा खेल है?

कैराना सांसद तबस्सुम बेगम ने बेसहारा जानवरों से किसानों की हो रही मुश्किलों को उठाया। कहा कि 2019 में जनता के पास मौका है, वह मोदी को जवाब दें। उन्होंने कहा कि चौधरी चरण सिंह के मंत्र ‘जाट प्लस मुसलमान’ के समीकरण से ही जीत हासिल की जा सकती है।

रालोद के प्रदेश महासचिव त्रिलोक चंद त्यागी ने मुद्रा योजना में घोटाले की जांच कराने की मांग की। कहा कि 1978 में चौधरी चरण सिंह ने काम के बदले अनाज योजना शुरू कर मनरेगा की नींव रखी। राजस्थान सरकार में रालोद के एकमात्र मंत्री और भरतपुर के विधायक सुभाष गर्ग ने कहा कि यह जनता की एकता की ही ताकत है कि वह राजस्थान में मंत्री हैं। कार्यक्रम का संचालन रालोद जिलाध्यक्ष रामरसपाल पौनियां ने किया।