डूबता केरल, तैरते शव, बिलखते लोग…..रुला देने वाली हकीकत !

दिल्ली| केरल में शनिवार को बाढ़ से 22 अतिरिक्त लोगों की मौत हो गई, और इसके साथ ही नौ अगस्त से अबतक मरने वालों की संख्या बढ़कर 200 से ज्यादा पहुंच गई है। इस बीच भारी बारिश के अनुमान के कारण अधिकारियों की चिंता बढ़ गई है। राज्य के 11 जिलों में रेड अलर्ट जारी है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग द्वारा शनिवार अपराह्न जारी अनुमान के मुताबिक, राज्य के अलग-अलग हिस्सों में मूसलाधार बारिश होने की संभावना है।
(चित्र में केरल राज्य सरकार के वित्तमंत्री स्वम् बचाव कार्य में जुटे हुए है)
एनडीआरएफ के प्रवक्ता ने बताया कि बल ने केरल में अपने अभियान को और तेज कर दिया है और उसकी कुल 55 टीमें राहत और बचाव अभियान में लगी हैं। अब तक दस हजार से भी अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। बारिश से सर्वाधिक प्रभावित जिलों में अलुवा, चलाकुडी, अलप्पुझा, चेंगन्नूर और पथनामथित्ता जैसे इलाके शामिल हैं, जहां बचाव अभियान तेजी से चलाया जा रहा है और बचाव दलों ने बहुत से लोगों को बचाया है।बारिश से सर्वाधिक प्रभावित जिलों में अलुवा, चलाकुडी, अलप्पुझा, चेंगन्नूर और पथनामथित्ता जैसे इलाके शामिल हैं, जहां बचाव अभियान तेजी से चलाया जा रहा है और बचाव दलों ने बहुत से लोगों को बचाया है।
कांग्रेस नेता रमेश चेन्निथला ने सरकार पर प्रभावी रूप से राहत व बचाव कार्य करने में विफल रहने का आरोप लगाया
राज्य के खाद्य मंत्री पी. थिलोथमन ने मीडिया से कहा कि एक बात जो मैं कहना चाहता हूं वह यह कि संख्या बहुत बड़ी है और समय की जरूरत है कि लोगों को खाद्य पैकेट और पीने का पानी मुहैया कराया जाए।