दक्षिण में खिल गया कमल, #BJP ने #कांग्रेस से छीन लिया #कर्नाटक

बैंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनावों में भाजपा की सरकार बनती दिख रही है। मतगणना के शुरुआती रुझानों में भाजपा को बहुमत मिल गया है। पार्टी ने विश्वास व्यक्त किया है कि जब अंतिम परिणाम आएंगे तब भाजपा को ही बहुमत मिलेगा। पार्टी ने 224 में से 112 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है। इस तरह भाजपा का विजय रथ दक्षिण भारत भी पहुँच गया है और कांग्रेस को कर्नाटक की सत्ता से बाहर करने में भाजपा सफल रही है। अब कांग्रेस के पास देश में सिर्फ पुडुचेरी और पंजाब में ही सरकार रह गयी है।

इससे पहले कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर को देखते हुए कर्नाटक के राजनीतिक प्रेक्षकों ने उम्मीद जताई थी कि यही रुझान अगर परिणाम में बदले तो जनता दल सेक्युलर और भाजपा की गठबंधन सरकार संभव है। हालांकि जनता दल सेक्युलर ने जब बसपा के साथ गठबंधन किया था तब बसपा ने यह शर्त रखी थी कि चुनाव बाद भाजपा से किसी तरह का गठबंधन नहीं होगा। जनता दल-एस पहले भी भाजपा के साथ सरकार चला चुका है हालांकि बाद में उसने पार्टी को धोखा देकर उसकी सरकार गिरा दी थी।

इस बीच, भाजपा और कांग्रेस ने अपने कई वरिष्ठ नेताओं को बैंगलुरु में बिठा दिया है ताकि बहुमत नहीं मिलने की स्थिति में अन्यों को अपने पाले में किया जा सके। गोवा और मणिपुर के हश्र से सीख लेते हुए कांग्रेस ने गुलाम नबी आजाद और अशोक गहलोत को एक दिन पहले ही कर्नाटक भेज दिया था। इसी तरह भाजपा के महासचिव और कुछ अन्य नेता बैंगलुरु में पल पल बदलती राजनीतिक स्थिति पर निगाह रखे हुए हैं।