बिहार में चुनाव ना होता तो नरेंद्र मोदी जी को बिहार भी प्यारा ना होता : अलका लांबा

नई दिल्ली | बिहार चुनाव के नजदीक आते ही भाजपा और कांग्रेस में जुबानी जंग तेज हो गयी है | महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस के बयान पर हंगामा मचा हुआ है | कांग्रेस नेत्री अलका लांबा ने देवेंद्र के बयान पर बड़ी प्रतिक्रिया दी है | अलका लांबा ने दो टूक कहा है कि यदि बिहार में चुनाव न होता तो पीएम को बिहार भी पसंद न होता | अलका लांबा के ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं |

अलका लांबा ने ट्विटर पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि- नरेंद्र मोदी जी को तो ख़ुद से प्यारा कुछ भी नहीं है, बिहार में चुनाव ना होता तो बिहार भी प्यारा ना होता | बाकि राज्य इस बात का ज़रा भी बुरा ना मानें 🙂

अलका लांबा ने एक ट्वीट में लिखा कि-भारत के ख़िलाफ़ बोलना और सरकार के ख़िलाफ़ बोलना,दोनों अलग अलग बातें हैं, विपक्ष का एक नेता क्या कहता है मात्र उसी से BJP में भूचाल आ जाता है, सत्ता पक्ष के नेता हर दिन देश में नफ़रत फ़ैलाने वाले, देश को बांटने वाले काम करते रहते हैं, तब कार्यवाही करने की बजाए इन्हें सांप सूँघ जाता है

अलका लांबा ने एक ट्वीट में कहा कि- चुनावों से ठीक पहले, विपक्ष में रहते हुए #PM मोदीजी #चीन का नाम ले ले कर सीधा ललकारा करते थे, आज उन्हें जैसे चीन का नाम लेने से डर लगता है ठीक वैसे ही दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल को अब मोदी-शाह का नाम लेने से #डर लगता है, चुनावों से पहले यह भी उन्हें नाम ले ले कर ललकारा करते थे.

अलका लांबा ने लिखा कि- जम्मू कश्मीर में BJP सत्ता में थी,जब उसे बर्खास्त कर राष्ट्रपति-शासन लगाया गया, कह सकते हैं “बाप का राज था”, लगा दिया राष्ट्रपति शासन. पश्चिम बंगाल महाराष्ट्र में संघी सरकार नहीं है, इसलिए कहती हूँ “तुम्हारे बाप का राज नहीं है वहाँ” जो राष्ट्रपति शासन लगाने की बार बार बात करते हो