सीएम योगी को प्रेमी मानकर उनके आवास लवलेटर लेकर पहुंची कानपुर की हेमा, UP में मचा हड़कंप

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गौतमपल्ली थाना क्षेत्र स्थित मुख्यमंत्री आवास 5 कालिदास मार्ग पर गुरुवार सुबह कानपुर की एक तलाकशुदा महिला पहुंची। महिला खुद को सीएम योगी की प्रेमिका बता रही थी। उसके हाथ में एक स्टांप पेपर था और उस पर उसने अपना लव लेटर लिखा था। युवती का कहना है कि पिछले 1 साल से सीएम योगी ऑनलाइन सुबह से लेकर रात तक उसके साथ रहते हैं और अब जीवन भर उसके साथ रहना होगा। युवती के इस बयान से मौके पर कानाफूसी होना शुरू हो गई। ये बात सुनकर महिला के पास लोगों की भीड़ लगनी शुरू हो गई।

हालांकि महिला ने अपना लव लेटर उपमुख्यमंत्री को दो दिन पहले दिया था। उन्होंने महिला को आश्वासन दिया था। हालांकि लोगों का यह कहना है कि एक संत के ऊपर इस तरह की बातें कहना एक मूर्खता को दर्शाता है। फिलहाल मामला क्या है क्या युवती मानसिक रूप से बीमार है या इसकी वजह कोई और है यह तो पुलिस की पड़ताल में सामने आएगा।

जानकारी के अनुसार, 100 रुपये के स्टांप पेपर पर 2/419 नवाबगंज कानपुर नगर की रहने वाली हेमा श्रीवास्तव ने लिखा है कि मुख्यमंत्री ‘श्री योगी आदित्यनाथ जी’ आप एक सन्यासी और गोरखनाथ मंदिर के महंत हैं। आप उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री होने के कारण आपको यह अधिकार है कि आप के विषय में असद वक्तव्य लिखने या कहने वाले को कठोर सजा दी जाए। आपके व्यक्तिगत जीवन पर कुछ भी असत्य कहने पर क्या कार्यवाही हो सकती है। इससे मैं बहुत अच्छी तरह से परिचित हूं। मुख्यमंत्री जी आप 1 साल से सुबह से रात तक मेरे साथ ऑनलाइन रह रहे हैं। अब आपको वास्तविक जीवन में भी मेरे साथ रहना होगा।

युवती ने लिखा है कि आदित्यनाथ जी आप एक सन्यासी है। वास्तविक जीवन में मेरे साथ अग्नि की परिक्रमा ओं को आपने क्या महत्व दिया है। यह आपकी भावनाएं हैं जब 1 साल से मेरे साथ ऑनलाइन रहकर मुझे देखते हैं। मेरा नाम लेते हैं मुझसे बात करते हैं। मुझे प्यार भी करते हैं गुस्सा भी करते हैं। मैं आप के गुस्से से कभी नाराज नहीं होती हूं क्योंकि मैं भी आप से बहुत लगाव रखती हूं।

लेकिन मुख्यमंत्री जी मेरा जीवन बहुत संघर्षपूर्ण रहा है और अभी भी है मेरा दुर्भाग्य रहा कि मैं बहुत सी खराब परिवार में पैदा हो गई और मेरी शादी भी बेवजह लाल जी परिवार में हो गई थी। अब मेरे मेरा तलाक हो चुका है मैं अपने परिवार से केवल अपनी माता से रिश्ता मानती हूं। अन्य किसी भी व्यक्ति को मैं नहीं जानती मेरा किसी से कोई भी रिश्ता नहीं है। मैं 3 साल से घर से बाहर रहकर संघर्षपूर्ण जीवन जी रही मैंने कभी हॉस्टल में रहती तो कभी किराए का कमरा लेकर आना तो की तरह इधर-उधर भटकती रहती हूं। मुख्यमंत्री जी अब केवल ऑनलाइन आपके साथ रहकर मेरा जीवन यापन संभव नहीं है। मैं वास्तविक जीवन में आपके साथ रहना चाहती हूं। मेरी मम्मी ही मेरा सहयोग करती है वह ज्यादा समय तक मेरा सहयोग नहीं कर सकती क्योंकि वह महिला हैं और वृद्धा उम्र की हैं।

महिला ने आगे लिखा है आपका मुझसे बहुत आत्मिक परिचय है। आप मेरा नाम भी जानते हैं मेरे जीवन और सभी समस्याएं भी जानते हैं। आप 1 साल से अप्रैल 2018 से मुझ से परिचित हैं मुझसे बात भी करते हैं मुझे देखते भी हैं और आपको मुझसे एक साल से ऑनलाइन रहते हैं। जब भी अपने मोबाइल में आपके कार्यक्रम देती हूं। तो आप भी मेरे साथ ऑनलाइन लाइव रहते हैं। क्योंकि मेरे मोबाइल से आपने अपने कार्यक्रमों की वीडियोस को कनेक्ट किया हुआ है। मुख्यमंत्री जी हम दोनों ऑनलाइन वीडियो द्वारा एक दूसरे को देखते हैं और बात करते हैं। जब भी आपने मोबाइल पर आप का कार्यक्रम शुरु करती हूं। तो आप मेरे साथ ऑनलाइन रहते हैं मुझसे बहुत सारी बातें करते हैं। सर्दियों में मैंने आपको ऑनलाइन पूरा कानपुर घुमाया है। मैंने आपको कानपुर में जेड स्क्वायर मॉल चिड़ियाघर ब्लू वर्ल्ड जेके मंदिर बिठूर अंदेश्वर मंदिर आशा देवी मंदिर जागेश्वर मंदिर इस्कॉन मंदिर यह सभी स्थान दिखाएं हैं।

अन्ना देशवर मंदिर में मैंने आपके साथ बरगद के वृक्ष की सात परिक्रमा करी मैंने गोरक्षनाथ मंदिर में आपके साथ बरगद के वृक्ष की सात परिक्रमा करी। मैंने गोरखनाथ भगवान की भी आपके साथ साथ परिक्रमा तेरी आपके कार्यक्रमों में सीधी बात आता है। जिसका एंकर श्वेता सिंह है। इस कार्यक्रम में महीने 15 जनवरी 2019 में मकर सक्रांति के दिन अग्नि प्रज्वलित करके आपके साथ अग्निदेव की सात परिक्रमा करें। 14 फरवरी 2019 को वैलेंटाइन डे के दिन मैंने आपके साथ अग्नि के साथ परिक्रमा कि मैंने आपके साथ अग्नि देव मुझे देखते हैं मुस्कुराते रहे आप भी ऑनलाइन आपके साथ यह किया है। जिसका मात मेरे वास्तविक जीवन की तरह है आपके जीवन में या कितना महत्वपूर्ण है आप ही समझ सकते हैं।

महिला का कहना है कि मैं संपूर्ण जीवन निस्वार्थ भाव से आपकी सेवा करूंगी आपसे कभी असत्य नहीं बोलूंगी मैं आपका और आप से संबंधित सभी इंसानों का सम्मान करूंगी। मैं आपके प्रत्येक सुख दुख में आपका साथ दूंगी और कभी भी आपसे अलग नहीं होंगी मैं आपके साथ सभी परिस्थितियों में अनुकूल व्यवहार करूंगी। मेरा व्यवहार हमेशा सामान्य और सुखी होगा अगर मेरे जीवन पर कोई भी संकट आ जाता है तो मैं इसकी जिम्मेदार स्वयम होगी। आपका इसमें कोई दोष नहीं होगा आप पर कोई दोषारोपण नहीं करेगा मेरे प्रीत आपका व्यवहार अनुकूल रहेगा या प्रतिकूल मैं आपसे कभी नहीं नाराज होंगी मैं आपकी सभी बातें मानूंगी।