अलीगढ़ में यूनिवर्सिटी की स्थापना के प्रयास छलावा, झूठे हैं छात्र नेताओं के दावे, अक्टूबर से करेंगे आंदोलन

अलीगढ़ । आगरा यूनिवर्सिटी की भ्रष्ट कार्यव्यवस्था से त्रस्त अलीगढ़ मंडल के छात्रों के लिए अलीगढ़ में राजकीय यूनिवर्सिटी की स्थापना के प्रयासो का रालोद नेता जियाउर्रहमान ने स्वागत किया है । डीएम का छात्रहितों में भूमि खोजने और शासन से पैरवी करने के लिए आभार व्यक्त किया है । रालोद छात्र नेता जियाउर्रहमान एडवोकेट ने कहा है कि अलीगढ़ में राजकीय यूनिवर्सिटी की स्थापना आम जनमानस की मांग है, जिससे लाखों छात्रों का भविष्य संवरेगा और युवाओं को बेहतर अवसर मिलेंगे । उन्होंने कहा कि पिछले लम्बे समय से छात्रों से छलावा होता आ रहा है, लेकिन उम्मीद है कि इस बार ऐसा नही होगा ।


जियाउर्रहमान ने कहा कि चन्द छात्रनेता विवि की लड़ाई सबसे पहले लड़ने और तरह तरह के दावे कर रहे हैं जो कि पूरी तरह फर्जी हैं । उन्होंने मीडिया का ध्यान आकर्षित कराते हुए कहा कि वर्ष 2012 में सबसे पहले छात्र रालोद ने अलीगढ़ में यूनिवर्सिटी बनाने की मांग उठाई थी, जिसमे  सैंकड़ो धरना प्रदर्शन, ज्ञापन और हस्ताक्षर अभियान चलाए । बाद में छात्र संघर्ष मोर्चा की भी स्थापना कराई थी, जिसमे प्रत्येक दल के छात्र नेताओं को एक मंच पर आये ।  शहर के प्रत्येक चौराहे और संस्थान तक मुद्दे को पहुंचाया लेकिन कुछ लोग फर्जी श्रेय लेने की होड़ में लगे हैं । उन्होंने कहा कि छात्र रालोद की ओर से ही तत्कालीन रालोद के नेता विधानमंडल दल ठाकुर दलवीर सिंह जी ने विधानसभा में मुद्दा उठाया था । लखनऊ से शासन स्तर की टीम ने पनेठी के पास भूमि का चिन्हीकरण भी किया था, तत्कालीन डीएम ने प्रस्ताव भी भेजे लेकिन आजतक कोई नतीजा नही निकला । मीडिया से आग्रह करते हुए कहा कि विवि के मुद्दे की लड़ाई में शामिल सभी छात्र नेताओं के योगदान को सराहा जाना चाहिए ।


उन्होंने कहा कि विवि की लड़ाई में 2012 से आज तक यथावत संघर्ष किया, कई मुकद्दमे झेले लेकिन अब साजिश के तहत दरकिनार किया जा रहा है । उन्होंने कहा कि जो प्रयास अब चल रहे हैं वो पहले भी हुए हैं, बजट न मिलने तक सभी प्रयास छलावा हैं । अक्टूबर तक विवि की स्थापना न होने पर जनांदोलन पुनः शुरू किया जाएगा ।


सपा छात्र नेता मुंतजिम किदवई ने कहा कि अलीगढ़ में यूनिवर्सिटी की सौगात मिलना जरूरी है, भाजपा ने वायदा भी किया था लेकिन अभी तक कुछ नही निभाया।  उन्होंने कहा कि भाजपा के छलावे में छात्र आने वाले नही है, अक्टूबर से सड़कों पर उतरकर  आंदोलन करेंगे । उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने यूनिवर्सिटी के मुद्दे पर चंदा इकट्ठा किया और आजतक हिसाव नही दिया वो क्रेडिट लेने की होड़ कर रहे हैं । उन्होंने कहा कि 2012 से आज तक यूनिवर्सिटी की लड़ाई लड़ रहे हैं और आगे भी दमदारी से लड़ेंगे । यूनिवर्सिटी के लिए अक्टूबर से छात्र नेता किरणपाल सिंह, विशाल गौतम, मनोज शर्मा, रिजवान चौहान ने भी लड़ाई लड़ने का एलान किया है ।

फ़ोटो: वर्ष 2013 में विवि के लिए संघर्ष के दौरान की तस्वीरें