यस बैंक की शाखाओं में उमड़ी ग्राहकों की भीड़, सुरक्षा के लिए बुलाई पुलिस

फरीदाबाद | नीलम-बाटा मार्ग स्थित यस बैंक और अन्य सभी ब्रांचों में रुपये निकालने के लिए शुक्रवार सुबह से ही ग्राहकों की भीड़ उमड़ पड़ी। देखते ही देखते यस बैंक के सभी एटीएम खाली हो गए। बैंक प्रबंधक ने ग्राहकों को बताया कि मुख्यालय से ऐसे निर्देश हैं कि ग्राहक एक महीने में अधिकतम 50 हजार रुपये ही बैंक खाते से निकल सकते हैं। ऐसे में वह कुछ नहीं कर सकते हैं। इसके अलावा बैंक में भीड़ से परेशान ग्राहकों को दोगुनी समस्या झेलनी पड़ी। एक ओर जहां लोग कोरोना के चलते भीड़ से बच रहे हैं, वहीं अपनी रकम वापस पाने के लिए बैंक की भारी भीड़ में शामिल हो रहे हैं। इसको लेकर ग्राहकों में रोष है। बैंक प्रबंधक आरएस मोदी ने इस बारे में मीडिया को कुछ भी बताने से मना कर दिया।

आरबीआई की गाइडलाइन जारी होने के बाद यस बैंक की शाखाओं में सुबह से लंबी कतारें लगी रहीं। बैंक की ओर से उपभोक्ताओं को केवल ₹ 50,000 देने की बात कही गई है। इससे उपभोक्ता भारी परेशान हैं। इसे लेकर यस बैंक की शाखाओं में सुबह से भारी भीड़ लगी रही। जिले में यस बैंक के सभी एटीएम खाली हो गए। सेक्टर-16 स्थित यस बैंक की ब्रांच में सुबह साढ़े नौ बजे से ही लोगों ने बैंक में आना शुरू कर दिया। खाताधारक चिंतित हैं। लोग बैंक में रुपयों के बारे में जानकारी ले रहे हैं।

बसेलवा कॉलोनी से आए प्रेमचंद को बीमार बेटे के इलाज के लिए पैसे की जरूरत है, लेकिन भी उन्हें अभी तक पैसा नहीं मिल सका। उनका कहना है कि उन्हें खाते से डेढ़ लाख रुपये लेने थे, लेकिन मात्र 50 हजार रुपये ही मिल पा रहे हैं। वहीं, सिंगापुर में रह रहे एक एनआरआई के पिता आरसी गुप्ता सुबह होते ही बैंक पहुंचे। उनका कहना है बैंक में उनका करोड़ों रुपया जमा है, ऐसे में उन्हें पैसों के सुरक्षित रहने की चिंता सता रही है। पैसों की सुरक्षा को लेकर घबराए ग्राहक बैंक में पहुंचकर हंगामा करने लगे। इसे देखते हुए सुरक्षा के मद्देनजर मौके पर पुलिस को बुलाना पड़ा। बाद में पुलिस की देखरेख में ग्रहकों की लाइन लगवाई गई। इसके बाद ही उन्हें उनके खातों से 50 हजार रुपये ही निकाले गए।