पाकिस्तानी युवतियों के लिए खतरा बने चीनी दूल्हे

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के एक दंपती ने इस उम्मीद के साथ अपनी बेटी राबिया कंवल की शादी चीन के एक ‘धनी’ मुस्लिम नागरिक से की थी कि उनकी बेटी की जिंदगी खुशहाल हो जाएगी, लेकिन शादी के बाद चीन पहुंचने पर राबिया का सपना टूट गया। उसे पता चला कि उसका पति मालामाल नहीं बल्कि एक गरीब किसान है। राबिया जैसी ऐसी कई पाकिस्तानी युवतियां हैं, जिनके सपने चीनी युवकों से शादी के बाद इसी तरह टूट रहे हैं।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के गुजरांवाला में गरीबी में पली-बढ़ी राबिया (22) ने कहा, ‘मैं इस शादी से बहुत खुश नहीं थी। मुझे लग रहा था कि कुछ अच्छा नहीं होने वाला है।’ पर्यटन वीजा पर पाकिस्तान आए चीनी नागरिक ने राबिया के परिवार से मुलाकात की और चीनी-उर्दू ट्रांसलेशन एप के जरिये उनसे बातचीत की। उसने खुद को मुर्गीपालन करने वाला अमीर किसान बताया।

उसकी बातचीत से प्रभावित हुए राबिया के माता-पिता को लगा कि उनकी बेटी की जिंदगी संवर जाएगी। उन्होंने राबिया की शादी चीनी नागरिक से कर दी। शादी के बाद जब वह गत फरवरी में चीन पहुंची तो पति की हकीकत जान दंग रह गई। उसे इस बात का भी झटका लगा कि उसका पति मुस्लिम भी नहीं है। यह सब जानने के बाद राबिया पाकिस्तानी दूतावास की मदद से अपने मुल्क लौट आई और अब अपने चीनी पति से तलाक लेने के प्रयास में है।

पहले दिखाए झूठे सपने, फिर वेश्यावृत्ति में धकेला-
हाल के सप्ताहों में ऐसी खबरें आई हैं कि दूल्हन के तौर पर करीब 150 पाकिस्तानी युवतियां चीन पहुंची हैं। इनमें से कईयों को झूठे सपने दिखाए गए थे। शादी के बाद चीन पहुंचने पर इनमें से कुछ को तो वेश्यावृत्ति के धंधे में धकेल दिया गया। यह भी बताया जाता है कि चीनी नागरिकों से शादी कर चीन गई कई पाकिस्तानी युवतियां बार और क्लब में काम करने को मजबूर हैं।

निशाने पर गरीब परिवार की लड़कियां-
पाकिस्तान में गरीब परिवारों की लड़कियों को खासतौर पर निशाना बनाया जाता है। तस्करी कर सैकड़ों महिलाओं और लड़कियों को हाल के महीने में चीन पहुंचाया जा चुका है। पाकिस्तान की सरकार ने इस तरह की शादी कराने वाले मध्यस्थ लोगों पर शिकंजा कसा है। अब तक दर्जनों चीनी और पाकिस्तानी नागरिकों की मानव तस्करी के आरोपों में गिरफ्तारी हो चुकी है।