साध्वी प्रज्ञा मुस्लिम होती तो आतंकी होती ! पढ़िए मीडिया को आईना दिखाता यह आर्टिकल-

आप सोचिये कि यदि किसी मुस्लिम को जिसपर आतंकी घटना में शामिल होने का केस चल रहा हो उसे कांग्रेस या अन्य कोई दल लोकसभा का प्रत्याशी बना दे तो देश में कथित राष्ट्रवादियों और मीडिया की क्या प्रतिक्रिया होती ? देशभर में भाजपाइयों ने हंगामा खड़ा कर दिया होता और तूफ़ान ला दिया होता | लेकिन राष्ट्रवाद का राग अलापने वाली भाजपा ने अचानक चुनाव में आतंकवाद की आरोपी मालेगांव ब्लास्ट की आतंकी साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से…

Read More

पद और महत्व न मिलने से मुस्लिम मोदी भक्तों में निराशा, मिशन 2019 पर ग्रहण !

वर्ष 2014 मे जब लोकसभा चुनावों की प्रक्रिया चल रही थी जो देश मे एक एैसा माहौल था कि यदि भाजपा और तत्कालीन गुजरात मुख्यमन्त्री नरेन्द्र मोदी सत्ता में आते है तो एक वर्ग विशेष के साथ न्याय नहीं होगा। विशेषरूप से भारतीय मुस्लिम समाज एक प्रकार से डरा हुआ था कि यदि नरेन्द्र मोदी प्रधानमन्त्री बन गए तो उनके लिए देश मे रहना मुस्किल हो जाएगा। परन्तु ऐसे निराशाजनक माहौल मे भी कुछ मुस्लिम तत्कालीन गुजरात मुख्यमन्त्री नरेन्द्र…

Read More

आगरा में जिंदा जलाई गई बेटी दलित न होती तो मीडिया और हिन्दूवादियों के लिए सुर्खियां होती !

डिजिटल होती दुनिया के दौर में हिंदुस्तान में अभी भी जाति और धर्म पर बहस राजनैतिक एवं सामाजिक रूप से हावी है। लोकसभा के चुनाव हों या विधानसभा के देश मे सरकारे रोजगार, विकास, शिक्षा और स्वास्थ्य के मुद्दे पर न बनकर धर्म और जाति पर बन रही हैं । विशेष बात यह है कि अब भगवान की जाति बताने का दौर भी भारत मे शुरू हो गया है । विश्व जहां नए नए अविष्कार कर रहा है, वहीँ…

Read More

बाप आजम खान पर FIR दर्ज होते ही बेटे अब्दुल्लाह को याद आया Aligarh एनकाउंटर !

लखनऊ । सियासत भी अजब गुल खिलाती है, यहां कौन, कब, कैसे नेताओं को याद आयेगा परिस्थितियों पर निर्भर करता है । अब आप सपा के बड़े नेताओं में शुमार, मुस्लिमो के बड़े नेता कहे जाने वाले आज़म खान के परिवार को ही देख लीजिए ,जैसे ही लखनऊ में आज़म खान के खिलाफ 2016 में डॉ आंबेडकर के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने का मामला दर्ज हुआ उनका परिवार आक्रोशित हो उठा । खुद आजम खान ने तो योगी सरकार…

Read More

व्यंग : फिल्मों में पुलिस : क़ानून के हाथ बंधे हैं ! और यह तस्वीर भी कुछ कहती है !!

कार्यालय|….आजकल यह तस्वीर फेसबुक व सोशल-मिडिया पर तैर रही है,अनायास ही कुछ देर ध्यान आकर्षित कराती है और सोचने पर मजबूर करती है कि फिल्मों के डायलाग क्या ,जमीनी हक़ीकत बन सकते हैं ? रोज यातायात-पुलिस हेलमेट के चालान काट रही होती है, थाना-चौकी में भी मेहमान आ रहे है,कुटाई चल रही है,परन्तु किसकी ? लोगों को कहते हुए सुना जाता है कि पुलिस का चक्कर पड़ गया है,अब रुपयों का इंतजाम करना पड़ेगा, आरोपी और अभियुक्त दोनों को…

Read More

तेल कंपनियों ने पेट्रोल डीलरों से मांगी जाति, धर्म, से जुड़ी जानकारियां : रविश कुमार

दिल्ली|एक ऐसे दौर में जब हमारी निजता, हमारे निजी आंकड़ों की प्राइवेसी को लेकर ख़तरा बढ़ रहा है एक नया विवाद खड़ा हो गया है. पेट्रोलियम मंत्रालय ने अपने डीलरों से कहा है कि वे अपना यहां काम करने वाले करीब दस लाख कर्मचारियों का डेटा दें. कुल 24 प्रकार की जानकारी मांगी गई है. इसमें जाति पूछी गई है. धर्म और चुनाव क्षेत्र की भी जानकारी मांगी गई है. जाति और धर्म और चुनाव क्षेत्र की जानकारी हासिल…

Read More

स्वामी अग्निवेश को नही देने दी PM वाजपेयी को श्रद्धांजलि, गुंडों ने की मारपीट, हिंदूवादियों के वहशीपन पर मीडिया खामोश !

पूरे विश्व मे शांति और बंधुत्व की बात करने वाले भारत रत्न पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने कभी सोचा नही होगा कि उनके ही अनुयायी एक निहत्थे और बेबस सन्यासी सन्त को पीटेंगे और जान लेने पर उतारू हो जाएंगे । लेकिन ऐसा ही हुआ देश के महान नेता अटल बिहारी वाजपेयी की मृत्यु पर । निश्चित ही अटल जी की आत्मा बेचैन होगी और शुक्रवार को भाजपा मुख्यालय के बाहर जो हुआ उसे देखकर शर्मशार भी होगी…

Read More

#आजादी के लिए #मर-मिटने की सोच भी #गायब होती जा रही है

आज़ादी मिले कई दशक हो गए। अनगिनत कुर्बानियों की कोख से निकली आज़ादी ने हमें लोकतंत्र सा बेटा दिया जो भ्रष्टाचार, घोटालों, स्वार्थ, अधर्म, कुकर्म व इनके दोस्तों के साथ खेला तो बिगड़ गया। यह बात तल्ख़ लगती है मगर सच तो है कि हमने इकहत्तर साल की आज़ादी को ज़िंदगी के जुए की चौसर बना दिया और देश और मातृभूमि को बिसरा दिया। क्या 15 अगस्त का दिन हमारे लिए एक और पेड हॉलीडे का दिन है। खाने…

Read More

#स्वतंत्रता दिवस विशेष : अंग्रेजों को पहली बार #लखनऊ में मिली थी शिकस्त

30 जून 1857 को चिनहट की कठौता झील के आसपास मौजूद आजादी के दीवाने देशभक्त रणबांकुरों ने फिरंगी हुकूमत की सेना को ऐसा सबक सिखाया कि उसके पैर उखड़ गए और उन्होंने भागने में ही अपनी भलाई समझी। इस अविस्मरणीय युद्ध का प्रतीक बने कांशीराम पर्यटन प्रबंध संस्थान में स्थित शहीद स्मारक आज भी भारतीय क्रांति के योद्धाओं की गाथा बयां कर रहा हे। 1857 राष्ट्रवादी मंच के संयोजक अमरेश मिश्र बताते हैं कि अवध में खुले मैदान में…

Read More

अलीगढ़ : प्रधानमन्त्री ने की थी मन की बात में चर्चा, अब उखड़ रही हैं रंगों की परतें

अलीगढ़| दीवार पर चित्रकारी की यह तस्वीर अलीगढ रेलवे स्टेशन के मुख्य द्वार के बराबर की हैं,ये अनोखी चित्रकारी की पहल कुछ युवाओं ने मिलकर पूर्ण की थी,जिसकी प्रशंसा आमजन से लेकर प्रधानमंत्री द्वारा मन की बात के मंच से भी की गयी थी,परन्तु आज न तो सरकार बदली और न सांसद व प्रधानमंत्री फिर भी अफसरों की लापरवाही इस कदर भयमुक्त हो गयी है कि रंगों की परतें उखड़ने लगी हैं| आज किसी को न तो रंगों की…

Read More