‘जिन देवी-देवताओं को देखा-जाना भी नहीं है, उनके पीछे हम सब पागल हैं’, पढ़िए जल दिवस’ का यह संदेश-

जिन देवी-देवताओं को हमने देखा-जाना भी नहीं हैं, उनके पीछे हम सब पागल है। उनके मंदिरों, इबादतगाहों और स्तुतियों ने हमारे जीवन का ज्यादातर हिस्सा घेर रखा है। जो जीवित देवी-देवता हमारी आंखों के आगे हैं और जो अनंत काल से हमारे लिए सब कुछ लुटाते रहे हैं, यदि हमने उनकी भी इतनी ही चिंता की होती तो हमारी यह दुनिया आज स्वर्ग से भी सुन्दर होती। ऐसे जीवित और वास्तविक देवी-देवताओं में ऊपर सूरज, नीचे धरती तथा जल…

Read More

क्या पत्रकारों की सुरक्षा और उनके अधिकार की आवाज सुनी जाएगी ?

दुनिया भर में जो पत्रकार, लोगों की खबर लेते और देते रहते हैं वो कब खुद खबर बन जाते हैं इसका पता नहीं चलता है। पत्रकारिता के परम्परगत रेडियो, प्रिंट और टीवी मीडिया से बाहर, खबरों के नए आयाम और माध्यम बने हैं। जैसे जैसे खबरों के माध्यम का विकास हो रहा है, खबरों का स्वरूप और पत्रकारिता के आयाम भी बदल रहे हैं। फटाफट खबरों और 24 घंटे के चैनल्स में कुछ एक्सक्लूसिव दे देने की होड़, इतनी…

Read More

भगवा जैसा पवित्र लिबास बदनाम कर रहे भगवाधारियों के तार कश्मीरी आतंकियों से जुड़े हो सकते हैं !

अपवित्र आतंक का ड्रेस कोड पवित्र होता है। जिहाद पवित्र है। इसका शाब्दिक अर्थ है- आत्मरक्षा के लिए किया गया युद्ध। यानी डिफेंसिव वार।देश का हर सैनिक जिहादी होता है। अपवित्र आतंकवादियों ने अपने गंदे मकसद वाले खून-खराबा को पवित्र जिहाद का नाम दिया है। अशांति और नफरत फैलाने वाले दहशतगर्दों ने अपने संगठनों का नाम पैगम्बर मोहम्मद साहब के नाम पर रखा है। वही पैगम्बर जिनका मुख्य पैगाम मानवता, शांति, अमन, मोहब्बत और भाईचारा है। मानवता के दुश्मन…

Read More

‘अभिनन्दन’ के वंदन में मशगूल है भारत

शुभम अग्रवाल –भारतीय वायुसेना के शूरवीर विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान भारत वापस लौट आए हैं। अभिनन्दन के देश में वापसी के बाद अभिनन्दन करने में मशगूल भारतीयों ने आज चैन की साँस ली है। बीती रात अभिनन्दन की वापसी की खबर सुनते ही पूरे देश में खुशी का माहौल है, आधिकारिक तौर पर विंग कमांडर अभिनंदन की वापसी का वक़्त नहीं बताया गया था लेकिन दोपहर 12 बजे से ही उनके आने का इंतज़ार था। लेकिन ये इंतज़ार लंबा…

Read More

प्रियंका यूपी के अखबारों को विज्ञापन दिलाती रहेंगी !

कल लखनऊ में प्रियंका गांधी अपने रोड शो में एक शब्द भी नहीं बोलीं। कांग्रेस के सूत्र बताते हैं कि प्रियंका अगले शो में सिर्फ एक लाइन बोलेंगी- “पत्रकार भाइयों, आपके अखबारों को मैं विज्ञापन दिलवाती रहुंगी।” अक्सर ऐसा होता है कि जब किसी राजनीतिक दल का कोई बड़ा कार्यक्रम होता है तो वो दल या उसके नेता अखबारों को विज्ञापन देते हैं। लेकिन लखनऊ में इसके विपरीत उल्टी गंगा बही। लखनऊ में रोड शो प्रियंका का था और…

Read More

प्रपोज डे पर पढ़िए ध्रुव गुप्त का आर्टिकल- ‘बहुत प्यार करते हैं तुमको सनम’

आज ‘प्रोपोज डे’ की धूम देखकर अपनी नाकाम जवानी पर अफ़सोस हुआ। हमारी पीढ़ी में अपने सपनों की मलिका के सामने प्रेम का प्रस्ताव रखने का साह्स कम ही होता था। वह कभी मुख़ातिब भी हुई तो मुंह से ज़ुबान गायब। जब तक कुछ कहने का साहस जुटा पाएं, हमारी दुनिया लुट चुकी होती थी। तब ऐसे लोग ज्यादा थे जो दिल में किसी की तस्वीर बनाकर उसके तसव्वुर में जिंदगी गुज़ार दिया करते थे। उस शब्दातीत, अतीन्द्रिय, एकांत…

Read More

क्या अब हम सब इस ख़ूबसूरत लोकतंत्र को हत्यारों का ख्वाबगाह बनता हुआ देखेंगे ?

गोडसे गांधी का हत्यारा था। उसकी औलादें और उसके पुजारी गांधी को प्रमाणपत्र देकर सूरज पर थूकने की कोशिश कर रहे हैं। गांधी जो थे उनको उसी रूप में दुनिया उनके जीते जी जान चुकी थी। बर्नाड शॉ ने गांधी की मौत पर कहा, ‘यह दिखाता है कि अच्छा होना कितना ख़तरनाक होता है.’ दक्षिण अफ़्रीका से गांधी के धुर विरोधी फ़ील्ड मार्शल जैन स्मट्स ने कहा, ‘हमारे बीच का राजकुमार नहीं रहा.’ किंग जॉर्ज षष्टम ने संदेश भेजा,’गांधी…

Read More

धर्म की राजनीति जीतती है तो जाति की सियासत हार जाती है…

कांगेस के सफाये के बाद यूपी की सियासत दो पहलुओं में सिमट गयी। एक धर्म और एक जाति। जब धर्म की राजनीति जीतती है तो जाति की सियासत हार जाती है, और जब जाति की सियासत ऊफान पर होती है तो धर्म की नफरते ठंडी पड़ जाती हैं। आरोप लगते हैं कि यूपी में हिन्दू- मुसलमान की दूरियां पैदा करके भाजपा जातियों की दूरियां मिटा कर सत्ता की सफलता हासिल करती है। लोकसभा चुनाव नजदीक हैं। यूपी के नतीजे…

Read More

ये माला नहीं, देश की जिम्मेदारियां निभाने की विरासत का फंदा है…

करीब पच्चीस साल से देश चिल्ला रहा था। इल्तिजा की जा रही थी। आग्रह किया जा रहा था। करोड़ों लोगों की ख्वाहिश भी थी और मांग भी- प्रियंका गांधी अपने परिवार की वो विरासत संभाले जो विरासत देश को संवारने की जिम्मेदारियां संभालने के लिए पूरा जीवन समर्पित कर देती है। जनता का निवेदन था कि नेहरू, इंदिरा, राजीव की तरह देश को आगे बढ़ाने के लिए अपना जीवन समर्पित करें। सक्रिय राजनीति में आयें। पार्टी की बड़ी जिम्मेदारी…

Read More

पढ़िए मुस्लिम नेताओं को आईना दिखाता नवेद का आर्टिकल- ‘दलित-पिछड़ों के मिलन में दोराहे पर UP का मुसलमान’

दलितों और पिछड़ों की राजनीति में माहिर दल सपा-बसपा दशकों पुरानी तल्खियां भुला कर एक हो गये। दलितों-पिछड़ों को एक छतरी के नीचे लाकर यूपी से भाजपा को साफ किया जा सकता है, इस कॉन्फिडेंस में ये गठबंधन मुस्लिम वोट को लेकर ओवर कॉन्फिडेंस मे है। बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की साझा प्रेस कांफ्रेंस में गठबंधन की घोषणा में जाति के खूब जिक्र हुए लेकिन मुस्लिम समाज के किसी भी दर्द की चर्चा नहीं हुई।…

Read More