इंदौर में मिले कोरोना के 5 नए मरीज, भारत मे अबतक 11 मौत

नई दिल्ली । वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने के लिए पूरे देश में 14 अप्रैल तक पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की गई है। अभी तक भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 542 हो गई है। बुधवार को बिहार में एक और मध्यप्रदेश में पांच नए मरीज मिले हैं। तमिलनाडु में एक व्यक्ति की मौत के साथ देश में कुल मृतकों की संख्या 11 हो गई है। इंदौर में मिले पांच मरीज-इंदौर के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती पांच…

Read More

फणीश्वरनाथ रेणु पर पढ़िए ध्रुव गुप्त का यह आर्टिकल : मिट्टी का संगीतकार !

हिन्दी के कालजयी कथाकार स्वर्गीय फणीश्वर नाथ रेणु को पहला आंचलिक कथाकार माना जाता है। हिंदी कहानी में देशज समाज की स्थापना का श्रेय उन्हें प्राप्त है। उनके दो उपन्यासों – ‘मैला आंचल’, ‘परती परिकथा’ और उनकी दर्जनों कहानियों के पात्रों की जीवंतता, सरलता, निश्छलता और सहज अनुराग हिंदी कथा साहित्य में संभवतः पहली बार घटित हुआ था। हिंदी कहानी में पहली बार लगा कि शब्दों से सिनेमा की तरह दृश्यों को जीवंत भी किया जा सकता है। रेणु…

Read More

बागपत के छपरौली की शिक्षिका विनीता को मिला ‘बेस्ट काव्य गायन’ अवार्ड, बेसिक शिक्षा निदेशक ने किया सम्मानित

छपरौली । उत्तर प्रदेश राजधानी लखनऊ मे आयोजित राज्य स्तरीय काव्य गायन प्रतियोगिता मे जनपद के छपरौली ब्लॉक की होनहार अध्यापिका विनिता तोमर स. अ. प्राथमिक विधालय न. 3 के चयनित होने पर राज्य बेसिक शिक्षा परिषद के निदेशक व अध्यक्ष बेसिक शिक्षा डा. सर्वेन्द्र बिक्रम सिंह ने राज्य स्तरीय पुरस्कार “बेस्ट काव्य गायन ” अवार्ड व प्रशिस्त पत्र देकर सम्मानित किया । जिससे अध्यापकों ने खुशी का इजहार किया है । बागपत जिले के बेसिक प्राथमिक विधालय न….

Read More

गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर के बारे में यह नहीं जानते होंगे आप, पढ़िए-

साहित्य, संगीत, रंगमंच और चित्रकला सहित विभिन्न कलाओं में महारत रखने वाले गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर मूलतः प्रकृति प्रेमी थे और वह देश विदेश चाहे जहां कहीं रहें, वर्षा के आगमन पर हमेशा शांतिनिकेतन में रहना पसंद करते थे। रवीन्द्रनाथ अपने जीवन के उत्तरार्ध में लंदन और यूरोप की यात्रा पर गए थे। इसी दौरान वर्षाकाल आने पर उनका मन शांतिनिकेतन के माहौल के लिए तरसने लगा। उन्होंने अपने एक नजदीकी से कहा था कि वह शांतिनिकेतन में रहकर ही…

Read More

रवीश को रमन मैग्सेसे सम्मान पत्रकारिता की जनपक्षधरता और उच्चतम मानवीय मूल्यों का सम्मान है !

पत्रकारिता की दुनिया के कई बड़े सम्मानों के बाद रवीश कुमार को प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय रमन मैग्सेसे सम्मान वस्तुतः पत्रकारिता की जनपक्षधरता और उच्चतम मानवीय मूल्यों का सम्मान है। रीढ़विहीन, बिकी हुई और बहुत हद तक वीभत्स पत्रकारिता के इस दौर में रवीश कुमार उन गिनती के पत्रकारों में एक हैं जो तमाम धमकियों और प्रलोभनों के बावजूद सत्ता प्रतिष्ठानों के आगे झुकने की जगह सत्ता की निरंकुशता, सांप्रदायिकता और छल को बेनक़ाब करते रहे। हिंदी मीडिया चैनलों की बेशर्म…

Read More

..धर्मों की आड़ में अबतक दुनिया में कितने विनाश हुए हैं !

धर्मों ने मनुष्यता को जितना दिया है उससे ज्यादा हमसे छीना ही है। दुनिया के सबसे ज्यादा नरसंहार धर्म के नाम पर ही हुए हैं। भूख, बीमारी और युद्ध से ज्यादा इंसानी जानें धर्मों ने ली हैं। आज के वैज्ञानिक युग में भी धार्मिक कट्टरता ने दुनिया को नर्क बनाया हुआ है। और यह तब है जब दुनिया का कोई भी धर्म हिंसा का समर्थन नहीं करता। सभी धर्म प्रेम, अमन, करुणा और भाईचारे की ही बात करते हैं।…

Read More

साध्वी ने गांधी की आत्मा की हत्या की, प्रज्ञा पार्टी से निकाल राजधर्म निभाए भाजपा : कैलाश सत्यार्थी

नई दिल्ली । नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी ने नाथूराम गोडसे को ”देशभक्त” बताने वाली साध्वी प्रज्ञा सिंह के बयान की आलोचना करते हुए शनिवार को कहा कि प्रज्ञा ने महात्मा गांधी की आत्मा की हत्या की है और भाजपा को उन्हें पार्टी से तत्काल बाहर निकलकर राजधर्म निभाना चाहिए। सत्यार्थी ने ट्वीट किया, ”गोडसे ने गांधी के शरीर की हत्या की थी, परंतु प्रज्ञा जैसे लोग उनकी आत्मा की हत्या के साथ, अहिंसा,…

Read More

कब्र से निकाल कर चार्ली चैपलिन के शव को चुरा ले गये थे चोर, पढ़िए फिर क्या हुआ?

नई दिल्ली। इतिहास में कई ऐसे नाम दर्ज हैं जो किसी एक देश के नहीं बल्कि सारी दुनिया में चाहे और सराहे जाते हैं। चार्ली चैपलिन भी उनमें से एक हैं। बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि दुनिया को हंसाने वाले चार्ली चैपलिन की मौत के बाद कुछ चोर उनकी कब्र खोदकर ताबूत निकाल ले गए और उनके परिवार से ताबूत के बदले में चार लाख पाउंड की मांग की। उन चोरों को धन तो नहीं मिला क्योंकि…

Read More

मदर्स डे पर जरूर पढ़िए ध्रुव गुप्त का आर्टिकल- पहला प्यार !

मां दुनिया की किसी भी भाषा का सबसे मुलायम, सबसे आत्मीय, सबसे खूबसूरत शब्द है। हमारा पहला प्यार मां होती है। हम उसकी अस्थियों, रक्त, भावनाओं और आत्मा के हिस्से हैं। जीवन का सबसे पहला स्पर्श मां का होता है। पहला चुंबन मां का। पहला आलिंगन मां का। पहली गोद मां की जो इस अजनबी दुनिया में आंख खोलने के बाद हमें सुरक्षा, कोमलता, ममता और आत्मीयता के अहसास से भर देती है। पहली भाषा मां सिखाती है। पहला…

Read More

लहू रहा है अब पुकार, आतंक को दो जड़ से उखाड़ !

अब धैर्य धरा न जाएगा बहुत हुआ अब संयमअब रण ही हो जाएगाअब धैर्य धरा न जाएगा दहक रही हैं ज्वाला तन मेंक्रोधाग्नि दावानल आएगा इन दरिंदों को सीधे अबरण में मारा जाएगा वीर जवानों का लहू काअब बदला लिया जाएगाये नपुंसक पाकिस्तानीअब इनको न बख्शा जाएगा अमर शहीदों को अबरण ही सुकून पहुचायेगाबहुत हुआ हिंसा का खेलअब बदला लिया जाएगा अब धैर्य धरा न जाएगालहू रहा है अब पुकारआतंक को दो जड़ से उखाड़अब धैर्य धरा न जाएगा…

Read More